बिहार में बाढ़ का कहर : समस्तीपुर-दरभंगा रेल मार्ग पर ट्रेनों की आवाजाही पर लगी ब्रेक 

बिहार में बाढ से लोगों का बुरा हाल है. दर्जनभर से ज्यादा जिलों में बाढ़ का पानी घरों में घुसने से लोगों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ा रहा है. रेलवे ट्रैक्स पर पानी भर जाने रेल यातायात प्रभावित हुआ है. ऐसे में कई ट्रेने रद्द करनी पड़ी हैं तो कई ट्रेनों के रूट […]

बिहार: गोपालगंज में ऑर्केस्ट्रा के दौरान खूनी हिंसक झड़प, दो बरातियों की पीट-पीट कर हत्या 20 से अधिक घायल

पटना से करीब दो सौ किलोमीटर दूर गोपालगंज जिले के मीरगंज थाने के मटिहानी नैन गांव में आयी एक बारात में बुधवार की अहले सुबह करीब दो बजे ऑर्केस्ट्रा के दौरान बरातियों एवं गांव वालों के बीच खूनी हिंसक झड़प हो गयी. इस हिंसक झड़प में गांव वालों ने दो बरातियों की पीट-पीट कर हत्या […]

अधिकारियों को रेल मंत्री की फटकार के बाद भी दूर नहीं हुई ट्रेनों की लेटलतीफी : रेंग रही है प्रभु की रेल

एक व्यंग्यकार ने व्यवस्था पर तंज कसते हुए कहा था कि हमारी सरकार व्यवस्था ठीक करने के लिए हमेशा कड़े कदम उठाती है, लेकिन वे कदम इतने कड़े होते हैं कि उठ ही नहीं पाते. ये बात आज भारतीय रेल व्यवस्था की दशा-दिशा पर सटीक बैठती है. देरी से चलने की तमाम सिमाएं तोड़ती जा […]

ऐतिहासिक पशु मेले के अस्तित्व पर संकट

चार दशक पूर्व उत्तर बिहार के सीतामढ़ी में लगने वाला पशु मेला सोनपुर के बाद दूसरे नंबर पर रहा है. मेले के प्रति सरकारी व प्रशासनिक उदासीनता ने अब इसके अस्तित्व पर संकट खड़ा कर दिया है. फलस्वरूप अब पशुपालकों को अपने बैल की अदला बदली के लिए छोटे-छोटे बाजारों पर ही निर्भर रहना पड़ता […]

नशाबंदी : बंद करने होंगे कई छेद

बिहार में शराबबंदी लागू होने के बाद भी सीमाक्षेत्र के इलाकों में शराब का अवैध कारोबार जारी है. सवाल यह है कि सामाजिक जागरूकता, प्रशासनिक सक्रियता व सख्त कानूनी पहरे के बावजूद नशे के कारोबार पर विराम क्यों नही लग रहा है? भारत-नेपाल की खुली सीमा कारोबारियों के लिए बेहतर व सुगम मार्ग साबित हो […]

अब भी रेडियो की राह देख रहे हैं महादलित

नीतीश सरकार के पहले कार्यकाल में ही सभी महादलित परिवारों को एक-एक रेडियो देने का एलान किया गया था. समाज के सबसे अंतिम पायदान पर खड़े महादलितों के बीच रेडियो का वितरण हो पाया अथवा नहीं, यह अब भी सवालों के घेरे में है. कुछ महादलित परिवारों के बीच रेडियो का वितरण हुआ भी तो […]

दर्जनों श्रद्धालुओं की मौत के बाद भी नहीं मिली सीख : भक्तों के लिए मौत की पगडंडी

मांकात्यायनी के लिए दूध की नदियां बहाने वाले भक्तों के खून से बागमती नदी लाल हो गई, लेकिन शासक-प्रशासक आज तक लापरवाह बना है. मां कात्यायनी के भक्तों के लिए आज भी मौत की पगडंडी लांघकर अराधना करना मजबूरी बनी हुई है. प्रत्येक सोमवार, बुधवार तथा शुक्रवार को आयोजित होने वाले मेले में इस पगडंडी […]

तैयारी अधूरी बाढ़ मचाएगी तबाही

उत्तर बिहार से प्रवाहित होने वाली प्रमुख नदियों में गंगा, बागमती, बूढ़ी गंडक, कमला, करेह व अघवारा समूह की नदियां ऐसी हैं जिसमें बाढ़ की सूचना मात्र से लोगों को भारी तबाही का डर सताने लगता है. लगभग डेढ़ दशक से बाढ़ की तबाही को लेकर लोग हमेशा परेशान रहते हैं. हर वर्ष बाढ़ की […]

नकली बीज ने मक्का किसानों के सपने तोड़े

नकली बीज का कारोबार करने वाले धंधेबाजों ने इस बार भी असली बीज के पॉकेट में नकली मक्के के बीज किसानों को उपलब्ध कराए. इस कारण मक्का फसल इस बार ठीक नहीं हुई. महाजनों से सूद पर रुपये लेकर किसानों ने बीज इस ख्याल से बोए थे कि अच्छी पैदावार होगी. लेकिन उनके सपने पूरे […]

बिहार की राजनीति में जातिवाद सबसे महत्वपूर्ण है : इब्राहिमी

वर्ष 2012 में बिहार के मुख्य सचिव रैंक से सेवानिवृत 1978 बैच के आईएएस अधिकारी डॉ एमए इब्राहिमी ने अपने प्रशासनिक अनुभवों के आधार पर माई एक्सपीरियंस इन गवर्नेंस (शासनतंत्र में मेरे अनुभव) के नाम से अंग्रेजी में किताब लिखी है. इस किताब में उन्होंने बिहार की राजनीति और प्रशासन में व्याप्त जातिवाद, भष्टाचार, हिंसा […]