बिहार की राजधानी पटना के गांधी मैदान में शुक्रवार को राष्ट्रीय पुस्तक मेला आरम्भ हुआ. समय इंडिया द्वारा आयोजित इस मेले का उद्घाटन किया विधायक संजीव चौरसिया ने. 11 दिन तक चलने वाले इस पुस्तक मेले में दर्जनों प्रकाशकों की पुस्तकों को खरीदने और पढ़ने का मौका मिलेगा. पुस्तक मेला सुबह 11 बजे से लेकर रात के 8.30 बजे तक चलेगा. इस मेले में किताबों के अलावा लोग लोकगीत का भी आनंद ले सकेंगे, साथ ही यहां कई अन्य प्रतियोगिताएं भी आयोजित की जाएंगी.

पटना की शान रहा है पुस्तक मेला

पटना पुस्तक मेला पिछले 33 वर्षों से राजधानी की शान रहा है. वैसे भी बिहार के लोग अपने पढ़ने के शौक और पुस्तक प्रेम के लिए जाने जाते हैं. हर साल पुस्तक मेले में आने वाले प्रकाशक इसकी सफलता से अभिभूत रहते हैं. हालांकि इस बार उन्हें थोड़ी निराशा हुई है, क्योंशकि हर बार की तरह इस साल सीआरडी द्वारा इस मेले का आयोजन नहीं हो रहा है.

अंत समय पर जगह में बदलाव

सीआरडी पटना पुस्तक मेला 6 से 17 दिसंबर 2018 के दौरान निर्धारित था. पिछले साल की तरह इस बार भी इसका आयोजन ज्ञान भवन में होना तय हुआ था. लेकिन इसके आयोजकों को तब झटका लगा, जब उन्हें बताया गया कि ज्ञान भवन का किराया पिछले साल की तुलना में ढाई गुणा बढ़ कर एक लाख रुपए प्रतिदिन से 2.5 लाख रुपए प्रतिदिन हो गया है. ऐसे में आयोजकों के लिए निर्धारित तारीखों पर मेला शुरू करना संभव नहीं हो सका और उन्होंने आयोजन से हाथ खींच लिए. उसके बाद इस आयोजन के लिए समय इंडिया आगे आया और उसने गांधी मैदान में पुस्तक मेला आयोजित करने का फैसला लिया. मेले में प्रकाशकों और पाठकों की भीड़ देखी जा रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here