पटना : बिहार में पार्टी की जबरदस्त हार के बाद राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद के बड़े बेटे व पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव पहली बार कैमरे के सामने आये और उन्होंने लोकसभा चुनाव में पार्टी के सफाये को लेकर पार्टी नेतृत्व को कठघरे में खड़ा किया है। उन्होंने अपने छोटे भाई और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को पत्र लिखकर कहा है कि इस हार की जिम्मेदारी उम्मीदवारों के साथ उन लोगों को भी लेनी चाहिए, जिन्होंने टिकट बांटे हैं। तेजस्वी से इस्तीफा मांगने वालों पर भी तेजप्रताप जमकर बरसे।

दूसरी तरफ हार के बाद भी राजद ने तेजस्वी प्रसाद यादव के नेतृत्व में पूरी आस्था जतायी है। लोकसभा चुनाव में हार को लेकर पूर्व सीएम राबड़ी देवी के सरकारी आवास पर मंगलवार को आयोजित समीक्षा बैठक में कहा गया कि तेजस्वी बिहार के भविष्य हैं। 2020 का बिहार विधानसभा चुनाव तेजस्वी यादव के नेतृत्व में ही लड़ा जायेगा।

तेजप्रताप ने छोटे भाई को ‘अर्जुन तेजस्वी’ से संबोधित पत्र में तेजप्रताप ने अपने दर्द का इजहार करते हुए लिखा है कि मैंने सिर्फ शिवहर और जहानाबाद के लिए टिकट मांगा था, लेकिन मेरी बात नहीं सुनी गयी। पत्र में यह भी लिखा है कि जो तेजस्वी के इस्तीफे की मांग करते हैं, मैं उनका पुरजोर विरोध करता हूं।

तेजप्रताप ने इवीएम हटाओ देश बचाओ के लिए आंदोलन करने की बात कही है। मंगलवार को राजद उम्मीदवारों की बैठक के पहले तेजप्रताप यादव का एक पत्र लेकर उनका सहयोगी राबड़ी देवी के आवास पहुंचा और तेजस्वी यादव को सौंपा। पत्र में तेजप्रताप ने लिखा है कि पहली बार लोकसभा का चुनाव लालू प्रसाद की अनुपस्थिति में लड़ा गया।

मैंने हमेशा पार्टी के भीतर आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों और परिवार को तोड़ने वाले लोगों के खिलाफ आवाज उठायी। लेकिन, मेरी न सलाह मानी गयी और न मेरी मांग सुनी गयी। पत्र में तेजप्रताप ने तेजस्वी के नेतृत्व में आपसी सामंजस्य के साथ 2020 का विधाननसभा चुनाव लड़ने की बात लिखी है। पत्र में उन्होंने यह भी कहा है कि नेता प्रतिपक्ष आपको बने रहना है। पत्र का समापन तेजप्रताप ने असफलता एक चुनौती है स्वीकार करो ।।। कविता के साथ की है।

लोकसभा चुनाव में करारी हार को लेकर राजद की समीक्षा बैठक
जगदानंद की अध्यक्षता में कमेटी गठित, हार के कारणों का लगायेगी पता
लोकसभा चुनाव में पार्टी की हुई हार के कारणों का पता लगाने के लिए पार्टी ने वरिष्ठ नेता जगदानंद सिंह की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय कमेटी बनायी है। कमेटी में पार्टी के वरिष्ठ नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी और प्रधान महासचिव आलोक मेहता को रखा गया है। कमेटी एक सप्ताह के भीतर अपनी रिपोर्ट देगी।

महागठबंधन पूरी तरह एकजुट : पूर्वे
राजद के प्रदेश अध्यक्ष डॉ रामच्द्र पूर्वे ने कहा कि महागठबंधन पूरी तरह एकजुट है। हार के कारणों की माइक्रो लेवल पर समीक्षा होगी। बैठक में लालू प्रसाद के प्रति भी पूर्ण आस्था जतायी गयी। बुधवार को दो बजे महागठबंधन के नेताओं की बैठक होगी, शाम चार बजे से राजद विधानमंडल दल की बैठक होगी।