पटना: बिहार में महागठबंधन ये तय नहीं कर पा रहा है की वो हार का ठीकरा किस पर फोड़ें। इस बीच जीत से उत्साहित जनता दाल यूनाइटेड के संसदीय दल की अहम बैठक आज दिल्ली में होगी। इस बैठक में खुद मुख्यमंत्री नितीश कुमार भी रहेंगे। सबसे पहले शाम पांच बजे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कामराज रोड स्थित आवास पर आयोजित राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक में बिहार में लोकसभा चुनाव की समीक्षा होगी।

30 मई को नरेंद्र मोदी की अगुआई में बन रही नयी सरकार में शामिल होने के बारे में भी औपचारिक तौर पर फैसला लिया जायेगा। साथ ही अरुणाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में जदयू को मिली जीत की भी समीक्षा की जायेगी। पार्टी बिहार की जीत की तरह ही अरुणाचल प्रदेश की जीत को देख रही है, जहां 60 सदस्यीय विधानसभा में जदयू के आठ विधायक जीते हैं।

पार्टी के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने बताया कि इस साल और अगले साल जम्मू-कश्मीर और झारखंड में विधानसभा चुनाव होने हैं। जदयू इन दोनों राज्यों के अलावा अन्य प्रदेशों में भी विधानसभा चुनावों में उम्मीदवार खड़ा करेगा।

समीक्षा बैठक में जदयू को राष्ट्रीय पार्टी की हैसियत में आने के लिए आगे की रणनीति तय करने के बारे में भी विचार विमर्श होगा। पार्टी को जल्द ही राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा मिल सकता है। बैठक में पार्टी को कहां-कहां विस्तार दिया जा सकता है, इस संबंध में भी चर्चा होगी। बैठक में भाग लेने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बुधवार की सुबह दिल्ली पहुंचेंगे।

पार्टी के सभी नवनिर्वाचित लोकसभा सदस्यों को भी बैठक में मौजूद रहने को कहा गया है। जाॅर्ज फर्नांडीस के जमाने में जदयू को राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा हासिल था। बाद के दिनों में यह दर्जा छिन गया। अब जब से नीतीश कुमार ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का पदभार संभाला है, जदयू ने कई राज्यों में सफलता पायी है। बिहार में 17 लोकसभा सीटों पर खड़े जदयू उम्मीदवारों में 16 चुनाव जीत गये।

सीएम से मिले रालोसपा से जदयू में आये विधायक
पटना। रालोसपा से जदयू में आये तीनों विधानमंडल सदस्यों ने मंगलवार को सीएम नीतीश कुमार से मुलाकात की। मुख्यमंत्री आवास में हुई मुलाकात के दौरान विधायक ललन पासवान, सुधांशु शेखर और विधान पार्षद संजीव श्याम सिंह ने सीएम को फूल देकर अभिवादन किया। सीएम ने उन्हें प्रतीक चिह्न व अंगवस्त्र देकर स्वागत किया। मौके पर मंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव व श्रवण कुमार, सांसद आरसीपी सिंह, श्याम रजक व संजय कुमार सिंह मौजूद थे।