नयी दिल्ली:  पूर्वोत्तर की कई बड़ी राजनीतिक पार्टियों और छात्र संगठनों ने रविवार को नागरिकता (संशोधन) विधेयक के खिलाफ अपने अभियान को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में तेज कर दिया।

असम गण परिषद (एजीपी) के नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र प्रसाद वैश्य ने बताया कि एजीपी और नेशनल पीपल्स पार्टी सहित पूर्वोत्तर की 11 राजनीतिक पार्टियों के एक प्रतिनिधि मंडल ने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात करके उनसे राज्यसभा में इस विधेयक को पारित करने पर जोर नहीं देने का आग्रह किया।

इस प्रतिनिधि मंडल का नेतृत्व मेघालय के मुख्यमंत्री कॉनराड संगमा ने किया।

इससे पहले दिन में असम के पूर्व मुख्यमंत्री और एजीपी के संस्थापक-अध्यक्ष प्रफुल्ल कुमार महंता ने अन्य पार्टियों के नेताओं के साथ राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद, केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान और समाजवादी पार्टी के नेताओं से मुलाकात करके उनसे इस विधेयक का विरोध करने की अपील की।

वैश्य ने कहा कि पूर्वोत्तर के क्षेत्रीय दलों के नेता दिल्ली में रूके हुए हैं और वे सभी राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधियों से मुलाकात करेंगे ताकि यह विधेयक राज्य सभा में पारित न हो पाए।

(भाषा)