मुंबई. पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक (Punjab and Maharashtra Co-operative Bank) को भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) ने बीते 24 सितंबर को एक नोटिस जारी कर छह महीनों के लिए लेनदेन समेत कई तरह का प्रतिबंध लगा दिया था. जिसमें एक दूसरे खाताधारक की मौत की खबर आ रही है. इससे पहले भी एक खाताधारक की मौत हार्ट अटैक की वजह से हुई थी. खबर के मुताबिक पीएमसी बैंक के मुलुंड शाखा में खाताधारक फट्टो पंजाबी की हार्ट अटैक से मौत हुई है. इससे पहले एक खाताधारक संजय गुलाटी की मौत भी हार्ट अटैक की वजह से हो गयी थी. बताया जा रहा है कि संजय के खाते में 90 लाख रुपये जमा थे. जानकारी के मुताबिक, संजय सोमवार को निवेशकों के साथ एक रैली में शामिल हुए थे, जहां उन्होंने निवेशकों को अपने पैसों की खातिर रोता-गिड़गिड़ाता देखा. लोगों का यह हाल देखने के बाद जब वह घर लौटे तो काफी बेचैन थे, जिसके कुछ देर बाद उनकी मौत हो गई.

इससे पहले एक खाताधारक संजय गुलाटी की मौत भी हार्ट अटैक की वजह से हो गयी थी. बताया जा रहा है कि संजय के खाते में 90 लाख रुपये जमा थे. जानकारी के मुताबिक, संजय सोमवार को निवेशकों के साथ एक रैली में शामिल हुए थे, जहां उन्होंने निवेशकों को अपने पैसों की खातिर रोता-गिड़गिड़ाता देखा. लोगों का यह हाल देखने के बाद जब वह घर लौटे तो काफी बेचैन थे, जिसके कुछ देर बाद उनकी मौत हो गई.

नहीं हो सकती है 25,000 रुपये से अधिक की निकासी
बता दें कि आरबीआई के आदेश के बाद पीएमसी बैंक न तो कोई नया लोन जारी कर सकता है और न ही कोई ग्राहक 25,000 रुपये से अधिक की निकासी कर सकता है. इस मामले में कई गिरफ्तारियां हुई हैं और प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) हाउसिंग डेवलपमेंट एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (HDIL) से संबंधित अन्य कंपनियों के बारे में जांच कर रहा है.

तीसरी बार बढ़ाई लिमिट
रिजर्व बैंक ने 3 अक्टूबर को PMC बैंक के ग्राहकों के लिए कैश निकालने की सीमा 10,000 रुपये से बढ़ाकर 25,000 रुपये कर दी थी. अभी इस बैंक के ग्राहक अपने खातों से 40,000 रुपये तक निकाल सकते हैं जबकि पहले वे 25,000 रुपये ही निकाल सकते थे. एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक डिपॉजिटर्स के हित और बैंक का रिवाइवल पहली प्राथमिकता है.

PMC बैंक के पास लगभग 200 करोड़ रुपये हैं जमा
कैश विदड्रॉल की लिमिट तय करने का कारण मैनेजमेंट को बैंक की कैश होल्डिंग्स को बाहर निकालने से रोकना है. RBI के मौजूदा और पूर्व एंप्लॉयीज की दो कोऑपरेटिव सोसायटीज के PMC बैंक के पास लगभग 200 करोड़ रुपये जमा हैं. PMC बैंक के डिपॉजिटर्स कैश विदड्रॉल की लिमिट बढ़ाने की मांग कर रहे हैं. बैंक में फ्रॉड के विरोध में और विदड्रॉल लिमिट बढ़ाने की मांग को लेकर डिपॉजिटर्स ने प्रदर्शन भी किए हैं.