इंदौर : पूर्व क्रिकेटर और पंजाब सरकार के कबीना मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर चुनावों के दौरान विभाजनकारी राजनीति करने का आरोप मढ़ते हुए उन्हें शुक्रवार को चुनौती दी कि वह रोजगार, नोटबंदी और माल एवं सेवा कर (जीएसटी) जैसे मुद्दों पर चुनाव लड़कर दिखायें.

सिद्धू ने यहां सिंधी कॉलोनी में कांग्रेस की चुनावी सभा में कहा, “मोदी में दम है तो वह रोजगार, नोटबंदी और जीएसटी जैसे मुद्दों पर चुनाव लड़ें. लेकिन वह लोगों को धर्म और जात-पांत के नाम पर बांटकर चुनाव लड़ रहे हैं.” अपने चुटीले बयानों, तुकबंदी और जुमलों के लिए मशहूर सिद्धू ने चुनाव प्रचार के आखिरी दिन पीएम मोदी पर तीखा हमला बोला.

सिद्धू ने कहा कि मोदी जी उस दुल्हन की तरह हैं जो रोटी कम बेलती है और चूड़ियां ज्यादा खनकाती है ताकि मोहल्ले वालों को यह पता चले कि वह काम कर रही है. बस यही हुआ है मोदी सरकार में. उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार गंगा नदी को साफ करने, दो करोड़ नौकरियां देने और विदेशी बैंकों में जमा काला धन भारत लाने के वादे निभाने में नाकाम रही है.

कांग्रेस के स्टार प्रचारक ने कहा, “मोदी केवल झूठ बोल रहे हैं. प्रधानमंत्री और उनका पूरा कुनबा झूठा है.” सिद्धू ने अपने चिर-परिचित अंदाज में तंज किया, “मैंने हीरो नम्बर वन, कुली नम्बर वन और बीवी नम्बर वन जैसी फिल्में देखी थीं. लेकिन इन दिनों मोदी की नयी फिल्म आ रही है-फेंकू नम्बर वन.”

उन्होंने मोदी सरकार पर कटाक्षपूर्ण आक्रमण जारी रखते हुए तुकबंदी की, “ना राम मिला, ना रोजगार मिला, हर गली में मोबाइल चलाता हुआ एक बेरोजगार मिला.” राफेल विमान सौदे पर प्रधानमंत्री को घेरते हुए पंजाब की कांग्रेस सरकार के मंत्री ने कहा, “मोदी देश के लोगों से कहते थे कि उन्हें 10 रुपये का पेन तक खरीदने पर दुकानदार से पक्का बिल लेना चाहिये. लेकिन जब राफेल विमानों की खरीदी के बिल की बात होती है, तो वह बिलबिलाते क्यों हैं?”