देश की राजधानी दिल्ली में अपराध लगातार बढ़ते जा रहे हैं. राह चलते लोगों के साथ छीना झपटी की घटनाएं आम हो चली हैं.  बीते शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भतीजी भी इसका शिकार बनी. बताया जाता है कि एक ऑटो रिक्शा से उतरते समय दो स्कूटर सवार लोगों ने उनका पर्स और मोबाइल फोन झपट लिया. उनके पर्स में 50,000 रुपये नकद थे. मामला हाई प्रोफाइल था. जिसकी वजह से पुलिस ने तत्परता दिखाई और आज दोनों लुटेरों को हिरासत में ले लिया. दोनों नोनू और बादल को नबी करीम इलाके से पुलिस ने गिरफ्तार किया.

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी के भाई प्रह्लाद मोदी की बेटी दमयंती बेन मोदी की शिकायत के आधार पर पुलिस ने शनिवार को मामला दर्ज किया था. दिल्ली  पुलिस अधिकारी ने बताया कि उत्तरी दिल्ली के सिविल लाइंस इलाके में गुजराती समाज भवन के सामने सुबह सात बजे जब वह ऑटो से उतरीं तो स्कूटर पर सवार दो लोगों ने उनका पर्स झपट लिया. इसमें उनका फोन, 50000 रुपये, कुछ कागजात और अन्य सामान था.

मिली जानकारी के मुताबिक  घटना उपराज्यपाल अनिल बैजल और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास से कुछ किलोमीटर दूर हुई. शाम में गुजरात के लिए उनकी फ्लाइट थी. उन्होंने पुलिस को सूचित किया और उनके बयान के आधार पर सिविल लाइंस थाने में धारा 356और 379के तहत मामला दर्ज किया गया.

वहीं दमयंती बेन ने बताया कि जब मैं  शनिवार सुबह दिल्ली पहुंचकर गुजराती समाज भवन गयी. शाम में गुजरात के लिए मेरी उड़ान थी. मैं ऑटो रिक्शा से उतर रही थी, उसी दौरान झपटमारों ने मुझे निशाना बनाया.’

इस घटना को लेकर राजनीति भी तेज हो गई है. आम आदमी पार्टी ने दिल्ली की सुरक्षा को लेकर मोदी सरकार पर तंज कसा है. ‘आप’ प्रवक्ता राघव चड्ढा ने कहा, ” हर दिन गुजरने के साथ ही दिल्ली की कानून व्यवस्था बद से बदतर होती जा रही है. पुलिस भाजपा के राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों को पकड़ने में तत्परता दिखाती है.

जब दिल्ली के लोगों को सुरक्षा मुहैया कराने की बारी आती है तो यह तत्परता गायब हो जाती है. इसकी हालिया पीड़िता हमारे प्रधानमंत्री की भतीजी हैं.” साथ ही उनका कहना था कि यह घटना इसलिए भी स्तब्ध करने वाली है, क्योंकि यह घटना उपराज्यपाल तथा मुख्यमंत्री के आवासों के पास हुई है. उन्होंने कहा कि गृह मंत्रालय को दिल्ली में कानून एवं व्यवस्था को बहाल करने के लिए तत्काल और कड़े कदम उठाने चाहिए.