ओडिशा में फानी तूफान से मची तबाही के बाद मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर केंद्र से मिली मदद के लिए शुक्रिया अदा किया है. पटनायक ने अपने पत्र में ओडिशा में हुए नुकसान का भी जिक्र किया है और पुनर्वास के लिए PM नरेंद्र मोदी से मदद मांगी है.
तूफान के बाद तबाह घरों की सटीक संख्या और इससे जुड़ी जानकारी सर्वे पूरा होने के बाद ही मिल पाएगी. हालांकि शुरुआती अनुमान की मानें तो सबसे ज्यादा प्रभावित 14 जिलों में तकरीबन 5 लाख घर या तो पूरी तरह नष्ट हो चुके हैं या बड़े स्तर पर उन्हें नुकसान पहुंचा है. सबसे ज्यादा क्षति पुरी जिले में हुई है.’
नवीन ने पत्र में लिखा, ‘प्रिय प्रधानमंत्री जी, सबसे पहले मैं केंद्र सरकार को फानी के बाद ओडिशा सरकार को दी गई मदद के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं. प्रभावित जिलों में बड़ी संख्या में लोग मुश्किलों से गुजरे हैं, उनका आसरा भी छिन गया है. प्रदेश सरकार नुकसान का आकलन कर रही है जो काफी जल्द पूरा होने की संभावना है.
एक हफ्ते पहले नवीन पटनायक ने तबाही को देखते हुए केंद्र से 17,000 करोड़ रुपए की सहायता मांगी. आपदा से प्रभावित बिजली के ढांचे को बहाल करने के लिए 10,000 करोड़ रुपए की मांग की. उन्होंने पांच लाख कच्चे घरों को पक्का घरों में बदलने के लिए और आपदा दूरसंचार नेटवर्क के लिए 7,000 करोड़ रुपए की मांग की. केंद्र ने तूफान के बाद राज्य के लिए 381 करोड़ की सहायता राशि जारी की थी.
आपको बता दें कि चक्रवाती तूफान फानी के कारण राज्य में मृतकों की संख्या बढ़कर 64 हो गई है. विशेष राहत आयुक्त कार्यालय से जारी एक साइक्लोन सिचुएशन रिपोर्ट में कहा गया है कि बुरी तरह प्रभावित पुरी जिले में 39 मौतें हुई हैं, जबकि नौ मौतें खुर्धा और छह कटक में हुई हैं. रपट में कहा गया है कि चार लोगों की मौत मयूरभंज जिले में और तीन-तीन मौतें जाजपुर और केंद्रापाड़ा में हुई हैं. तूफान के कारण 14 जिलों में कुल 1.64 करोड़ लोग प्रभावित हुए हैं.