भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के उस दावे को खारिज करते सबूत पेश कर दिया है जिससे ये साबित होता है कि भारतीय जेट ने पाकिस्तान के एफ-16 लड़ाकू विमान को मार गिराया था। भारतीय वायुसेना ने मीडिया के सामने आकर एयर वाइस मार्शल आरजीके कपूर ने पाकिस्तान द्वारा फैलाए जा रहे झूठ को बेनकाब करते हुए सबूतों को सामने रखा। IAF ने AWACS (एयरबॉर्न वॉर्निंग ऐंड कंट्रोल सिस्टम) रेडार की तस्वीरें भी जारी की हैं।

सबूत को पेश करते हुए एयर वाइस मार्शल आरजीके कपूर ने दावा किया कि इसमें लाल निशान में 3 एयरक्राफ्ट हैं जो पाकिस्तान के एफ-16 हैं। दाहिनी तरफ ब्लू सर्कल में अभिनंदन वर्तमान के एयरक्राफ्ट के होने का पता चलता है। कुछ ही देर बाद ली गई दूसरी इमेज में पाकिस्तान का एक एफ-16 एयरक्राफ्ट दिखाई नहीं देता है। दरअसल, वह नष्ट हो चुका था।

एयर वाइस मार्शल ने आगे कहा कि DG-ISPR ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि उनके पास दो पायलट थे। एक कस्टडी में जबकि दूसरे को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इसी बात को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने अपने बयान में कहा था। इन सबसे साबित होता है उस दिन उसी क्षेत्र (पाक अधिकृत कश्मीर) में दो प्लेन क्रैश हुए थे।

IAF ने एक बयान में कहा, ‘इसमें कोई भी संदेह नहीं है कि 27 फरवरी 2019 को आसमान में डॉगफाइट के दौरान दो प्लेन गिरे थे। इनमें से एक IAF का बायसन था जबकि दूसरा पाकिस्तान एयरफोर्स का एफ-16 और इनकी पहचान इलेक्ट्रॉनिक सिग्नेचर और रेडियो ट्रांसक्रिप्ट से हुई।’

एयर वाइस मार्शल ने कहा कि हमारे पास विश्वसनीय सबूत हैं जो बताते हैं कि पाकिस्तान ने एक एफ-16 खोया है। हालांकि सुरक्षा और गोपनीयता की चिंताओं के कारण हम इसकी जानकारी पब्लिक डोमेन में शेयर करने से बच रहे हैं।