जम्मू-कश्मीर में शुक्रवार सुबह सुरक्षाबलों और आतंकियों की मुठभेड़ में दो आतंकियों को मार गिराया गया है। शोपियां के अदखारा इमामसाहिब में हुई मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने 2 से 3 आतंकियों को घेर लिया था। जिसके बाद दोनों तरफ से ज़बरदस्त गोलीबारी हुई और इस मुठभेड़ में आतंकी लतीफ टाइगर सहित एक अन्य आतंकी को सुरक्षाबलों ने मार गिराया है। लतीफ जुलाई 2016 में मारे गए आतंकी बुरहान वानी के ग्रुप का आखिरी आतंकी था।

कश्मीर के शोपियां के अदखारा में मारा गया हिज्ब कमांडर लतीफ़ टाइगर आतंकी बुरहान वानी का करीबी था। बुरहान के बाद वह हिज्ब का पोस्टर ब्बॉय बना था। आए दिन उसके सोशल मीडिया पर वीडियो और तस्वीरें वायरल होती थीं। वह कई लोगों की मौत का जिम्मेदार है।

कई आतंकी गतिविधियों में उसका हाथ रहा है। बुरहान वानी के 11 आतंकियों के ग्रुप में से अब सिर्फ तीन आतंकी बचे हैं। लतीफ़ टाइगर भी पुलवामा का रहने वाला था। आठवीं कक्षा पास करने के बाद पढ़ाई में मन न लगने के कारण वो गलत कामों में उलझ गया।

सूत्रों की मानें तो आतंकवाद में शामिल होने से पूर्व वह मोस्ट वांटेड पत्थरबाज था। आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के लिए ओजीडब्ल्यू के रूप में भी काम करने लग गया था। प्राप्त जानकारी के अनुसार 24 मार्च , 2016 में लतीफ़ को पत्थरबाजी के आरोप में गिरफ्तार भी किया गया था।

सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक, वर्ष 2015 में हिजबुल मुजाहिद्दीन कमांडर बुरहान वानी के साथ आतंकवादियों की एक तस्वीर जारी हुई थी। उनमें से एक तारिक पंडित को 2016 में जिंदा पकड़ लिया गया था। लतीफ टाइगर के खात्मे के साथ ही सुरक्षाबलों के द्वारा सभी आंतकियों को ढेर कर दिया गया है।

34-आरआर और एसओजी शोपियां ने इमाम साहिब इलाके में ज्वाइंट ऑपरेशन चलाया। सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को घेर लिया गया। दोनों तरफ से जमकर गोलीबारी हुई। सुरक्षाबलों को सूचना मिली थी कि इलाके में 2-3 आतंकवादी छिपे हुए हैं। फिलहाल फायरिंग रुकी हुई है।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि दक्षिण कश्मीर में शोपियां जिले के इमाम साहिब इलाके में सुरक्षा बलों ने शुक्रवार सुबह घेराबंदी की और तलाश अभियान शुरू किया। उन्होंने बताया कि आतंवादियों के ठिकाने के बारे में पता चलने के बाद दोनों तरफ से थोड़ी देर गोलीबारी हुई। अधिकारी ने बताया कि इलाके की घेराबंदी की गई है और विस्तृत ब्यौरे की प्रतीक्षा है।

ज्ञात हो कि इस इलाके में सोमवार यानी 6 मई को लोकसभा चुनाव के लिए वोट डाले जाएंगे। आतंकवादियों की मंशा चुनाव को बाधित करने की रही होगी।