मुख्यमंत्री सहित कई अन्य प्रमुख नेताओं की गुजारिश का असर गुजरात में नहीं हो रहा है और उत्तर भारतीयों पर हमले थमने के बजाय बढ़ते जा रहे हैं. खबर है कि शुक्रवार को बिहार के गया वासी एक युवक की सूरत में कुछ लोगों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी. मृतक अमरजीत सूरत में करीब 15 सालों से रह रहा था. उसने वहां अपना घर भी बना लिया था, वहां उसकी पत्नी और दो बच्चों भी साथ रहते थे. इस घटना के बाद पूरे इलाके में रह रहे उत्तर भारतीय दहशत के माहौल में रह रहे हैं.

अमरजीत सूरत के पंडेश्वरा इलाके में एक कंपनी में काम करता था, जहां से शुक्रवार की रात में लौटने के क्रम में बीच रास्ते में ही उसे कुछ लोगों ने घेर लिया और लोहे के रॉड से उसपर हमला बोल दिया. इस हमले से मौके पर ही उसकी मौत हो गई. अमरजीत के पिता सेवानिवृत सैनिक हैं. उन्होंने आरोप लगाया है कि गुजरात में बिहारियों के खिलाफ बने गलत माहौल के कारण उनके बेटे की हत्या हुई है.

मृतक के पिता ने बिहार, गुजरात और केंद्र सरकार से मांग की है कि इस हिंसा को रोकने के लिए जल्द ही जरूरी कदम उठाए जाएं, ताकि आगे से ऐसी घटना न हो. वहीं, सूरत पुलिस ने इस घटना को सड़क हादसे का नाम दे दिया है. पुलिस की तरफ से कहा गया है कि यह भीड़ हिंसा की घटना नहीं है, बल्कि युवक की मौत एक सड़क हादसे में हुई है. गौरतलब है कि 14 महीने की बच्ची से रेप के मामले में बिहार के एक युवक को पकड़े जाने के बाद गुजरात के लोगों में बढ़े गुस्से ने हिंसा का रूप ले लिया था, जिसकी वजह से उत्तर भारतीयों पर हमले हो रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here