उत्तर प्रदेश में योगी सरकार जहां एक तरफ जरूरतमंद लोगों के लिए प्रदेश में एंबुलेंस सेवा मुहैया कराने के तमाम दावे करती है.लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है.  घटना यूपी के गोरखपुर की है. जहां एंबुलेंस न मिलने पर पुलिसवाले ठेले पर लादकर अस्पताल ले जाने को मजबूर हो गए.

मिली जानकारी के मुताबिक गोरखपुर के कैंट थाना क्षेत्र में चेतना तिराहे के पास एक अज्ञात युवक बेहोशी की हालत में पड़ा था. मामले की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने 108 नंबर पर कॉल करके एंबुलेंस बुलाने की कोशिश की. रिस्पॉन्स नहीं मिलने पर आखिरकार दोनों सिपाही खुद उस अज्ञात युवक को लादकर जिला अस्पताल ले गए और उसको भर्ती कराया.

पुलिसकर्मियों ने बताया कि उन्होंने एंबुलेंस से लेकर कई गाड़ियों को रुकवाने का प्रयास किया, लेकिन जब कोई मदद नहीं मिली  तो वे ठेलेवाले को बुलाकर लाए और उस पर युवक को लादकर जिला अस्पताल ले गए. वहीं, इस घटना की जानकारी मिलने पर एएसपी सीओ कैंट रोहन प्रमोद बोत्रे ने दोनों सिपाहियों को अपने कार्यालय में बुलाकर उनका सम्मान किया.

कैंट थाने की जटेपुर चौकी पर तैनात सिपाही जग प्रसाद चौधरी और दिनेश कुमार  के मुताबिक उन्हें एक युवक के घायल होने की सूचना मिली थी. वे जब मौके पर पहुंचे तो 108 नंबर एंबुलेंस मंगाने के लिए कॉल किया. वहां से बताया गया कि एंबुलेंस पहुंचने में थोड़ी देर होगी. उसके बाद उन्होंने कहा कि तब तक तो युवक की मौत हो जाएगी. उसके बाद भी एंबुलेंस नहीं आई तो उन्होंने युवक को ठेला मंगाकर उस पर अस्पताल भिजवाया.

वहीं एएसपी बोत्रे ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि कोई भी घायल अवस्था में दिखे तो उसे बेहिचक अस्पताल पहुंचाने में उसकी मदद करें. ये धारणा छोड़ दें कि उन्हें पुलिसिया कार्रवाई से गुजरना पड़ेगा. पुलिस आप से किसी भी तरह का कोई सवाल जवाब नहीं  करेगी.