औसा: शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से कहा कि पाकिस्तान से ऐसे निपटें की वह दोबारा भारत से उलझने लायक ना बचे. मोदी के साथ एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए ठाकरे ने बीजेपी के घोषणापत्र का भी स्वागत किया. लोकसभा चुनाव में एकसाथ उतरने की घोषणा करने के बाद मोदी और ठाकरे की यह पहली संयुक्त रैली है.

ठाकरे ने कहा कि बीजेपी की घोषणापत्र में किए गए वादे ही आगामी लोकसभा चुनाव में दो प्रमुख पार्टियों के एकसाथ आने की वजह है. बीजेपी ने सोमवार को जारी अपने घोषणापत्र में राम मंदिर निर्माण, संविधान के अनुच्छेद 370 को निरस्त करने की अपनी प्रतिबद्धता को दोहराया है. उसने सत्ता में आने पर किसानों के लिए पेंशन सहित अन्य कल्याणकारी योजना का एलान भी किया है.

ठाकरे ने कहा, ”आज हमारी सरकार पाकिस्तान को सबक सिखाने की केवल बात नहीं करती.” उन्होंने कहा, ”प्रधानमंत्री जी, हमारी आप से अब एकमात्र उम्मीद यह है कि पाकिस्तान से इस तरह निपटे की वह भारत से दोबारा उलझने लायक ना बचे.” बीजेपी पर एनडीए के 2014 के प्रमुख चुनावी वादों को दोहराने का आरोप लगाने पर भी ठाकरे ने कांग्रेस पर हमला बोला.

मोदी ने उद्धव को ‘छोटा भाई’ बताया
प्रधानमंत्री की फसल बीमा योजना पर ठाकरे ने कहा कि कम्पनियां किसानों को धोखा दे रही हैं. उन्होंने मोदी से उन्हें सीधा करने की अपील भी की. उन्होंने कहा, ”(किसानों की सहूलियत के लिए) बीमा कम्पनियों के हर जिले में कार्यालय होने चाहिए.” वहीं मोदी ने अपने भाषण में उद्धव को अपना ‘छोटा भाई’ बताया और साथ ही आरोप लगाया कि ”कांग्रेस ने दिवंगत नेता बाल ठाकरे की नागरिकता छीन ली थी.”

शिवसेना प्रमुख ने कहा कि वह कांग्रेस का घोषणापत्र था जो झूठ से भरा था. उन्होंने कांग्रेस के ‘न्याय’ की भी आलोचना की. ठाकरे ने कहा, ”राहुल गांधी जी, गरीबी उन्मूलन का नारा आपकी दादी (दिवंगत प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी) ने दिया था. आपकी तो गरीबी दूर हो गई लेकिन गरीबों की गरीबी कब दूर होगी? इसे हम करेंगे.”

केन्द्रीय मंत्री रामदास आठवले और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने भी रैली को संबोधित किया. बीजेपी-शिवसेना गठबंधन के लातूर और उस्मानाबाद लोकसभा सीट के उम्मीदवार भी रैली में मौजूद थे.