रोहित शेखर तिवारी हत्या की जांच कर रही दिल्ली पुलिस ने आरोपी पत्नी अपूर्वा से लगतार पूछताछ में जुटी है।अदालत ने अपूर्वा को दो दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया है। क्राइम ब्रांच टीम ने सुप्रीम कोर्ट की वकील अपूर्वा को गिरफ्तार करने के बाद बुधवार को अदालत में पेश किया था। अब इस मामले में पहली बार अपूर्वा का परिवार सामने आया है।

अपूर्वा इंदौर हाई कोर्ट बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष और वरिष्ठ एडवोकेट पीके शुक्ला की बेटी हैं। और पूरा परिवार इंदौर में ही रहता है। बेटी अपूर्वाकी गिरफ़्तारी के बाद जब माता पिता सामने आये तो उन्होंने सीधा ये अआरोप लगाया कि उनकी बेटी राजनैतिक षड़यंत्र में फंस गई है। अपूर्वा की मां मंजुला ने बताया कि अपूर्वा और रोहित शादी से करीब एक साल पहले संपर्क में आए थे। उनका परिवार इस शादी से बहुत ज़्यादा खुश नहीं थे, लेकिन बेटी कि ख़ुशी के लिए वो खामोश रहे। इसके बाद दोनों की कुंडली भी मिलाई थी। एक ज्योतिष ने कहा था कि कुंडली तो मिल रही है लेकिन दोनों की शादी अच्छी नहीं रहेगी। पूजा कराना होगी। हमने पूजा कराई और शादी के लिए तैयार हो गए।

दूसरी तरफ एनडी तिवारी की तबीयत खराब होने लगी तो रोहित शादी के लिए दबाव बनाने लगा। रोहित ने उनके परिवार को ये भी बताया था कि उसकी माँ को कैंसर है जिस वजह से उनकी तबियत खराब रहती है। शादी जल्दी होगी तो माता-पिता का आशीर्वाद मिल जाएगा। मैंने उज्ज्वला जी से बात की तो उन्होंने कहा कि आप दिल्ली आ जाओ। हम दिल्ली पहुंचे। वहां शादी की बात तय हो गई।

अपूर्वा के परिवार का आरोप है की रोहित और उसकी माँ उज्ज्वला अक्सर पैसों के लिए उन पर दबाव बनाती थी। उनका आरोप है की अचानक मेहंदी वाले दिन रोहित की अंगुठी गुम गई। इसका आरोप भी उन्हें लोगों पारा लगाया गया। उसी दिन रोहित और उज्ज्वला ने मेहमानों के सामने अपूर्वा को बेइज्जत किया। वे इस बात पर नाराज थे कि अपूर्वा की वजह से पूर्व लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार को दो घंटे इंतजार करना पड़ा। हम यह रिश्ता नहीं करना चाहते थे। हम सब उठे और बाहर निकल आए, लेकिन मेहमानों के समझाने पर शादी के लिए तैयार हो गए। मेहंदी के बाद हम जाने लगे तो उज्ज्वला नाराज होने लगी। वह पैसा नहीं मिलने से नाराज थी।

परिवार का आरोप है की रोहित ने कई बार अपूर्वा के साथ मारपीट की और खुद को भी जानबूझकर चोट पहुंचाई। शादी के 15 दिन बाद अपूर्वा अपने घर इंदौर लौट आई थी। बाद में उज्ज्वला ने मुझे फोन कर कहा कि मैंने रोहित को समझा दिया है। अब विवाद नहीं होगा। अपूर्वा करीब दो महीने यहां रही। इस बीच रोहित का फोन आया कि मेरी सर्जरी हुई है। तुम मेरे पास आ जाओ। इस पर अपूर्वा दिल्ली लौट गई। कुछ दिन बाद रोहित और उज्ज्वला ने अपूर्वा से विवाद किया। इस पर अपूर्वा एक बार फिर इंदौर लौट आई।

अपूर्वा की माँ का आरोप है कि, कुंकुम नहीं चाहती थी कि अपूर्वा और रोहित की शादी हो। रोहित के कुंकुम के साथ अंतरंग संबंध थे। वह 24 घंटे घर में रहती है। कुंकुम राजीव प्रकाश की पत्नी है। कुंकुम खुद रोहित को शराब परोसती थी। इस बात की आशंका से भी इंकार नहीं कर सकते कि उसने रोहित को शराब में कुछ मिलाकर पिला दिया हो।

रोहित की मौत के बाद उज्ज्वला सभी से अच्छे से मिली थीं। उन्होंने कहा था कि मेरे बेटे की नेचरल डेथ हुई है। अब मेरी बहू अपूर्वा ही तिवारीजी का नाम आगे बढ़ाएगी। मैं इसे राजनीति में आगे ले जाऊंगी। शुरुआत में तो सब कुछ ठीक था, लेकिन अचानक उन्होंने बयान बदलना शुरू कर दिया। पहले दिन यही कहा कि मुझे किसी पर शंका नहीं है लेकिन बाद में अचानक अपूर्वा पर आरोप लगाने लगी।