सीवान: बिहार के सीवान सीट पर इस बार मुक़ाबला बेहद दिलचस्प हो गया है। ज़िले में दो बड़ी पार्टियों राजद और जद (यू ) की उमीदवार में मैदान में हैं। लेकिन  इस बार वहां के मतदाताओं के बीच यह धारणा बनाई जा रही है कि मुक़ाबला ‘भगवा बनाम बुर्का’ का है। सीवान की राजनीति हमेशा से अपराध के साये में रही है। इस बार भी सीवान संसदीय सीट पर जिन दो प्रमुख महिला प्रत्याशियों के बीच मुख्य मुकाबला माना जा रहा है, उनके पतियों की छवि बाहुबली राजनीतिक नेता की है।

सीवान लोकसभा सीट पर एनडीए से जेडीयू के टिकट पर दरौंधा की विधायक और बाहुबली अजय सिंह की पत्नी कविता सिंह का मुकाबला पूर्व सांसद एवं बाहुबली नेता मो शहाबुद्दीन की पत्नी हिना शहाब से हैं, जो आरजेडी प्रत्याशी हैं। सार्वजनिक जीवन में हीना शहाब सामान्‍यत: बुर्के में नजर आती हैं। दूसरी ओर, जेडीयू प्रत्याशी के पति अजय सिंह सीवान में हिंदू युवा वाहिनी के प्रमुख हैं। इस कारण यहां चुनाव प्रचार में ‘भगवा बनाम बुर्का’ की चर्चा है।

सीवान में यादव-राजपूत जातियों और मुस्लिम समुदाय का खासा प्रभाव है। इस बार चुनाव परिणाम पर अति पिछड़ी जातियों का प्रभाव पड़ने की संभावना है। अजय सिंह पत्नी के समर्थन में चुनाव प्रचार के दौरान हिना के बुर्के और उनके पति मो शहाबुद्दीन की आपराधिक छवि के साथ साथ पाकिस्तान की बातें भी करते रहे हैं। जबकि खुद अजय सिंह की छवि एक बाहुबली की है और उन पर कई आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। कविता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार की सरकारों के विकास कार्यों के आधार पर वोट मांग रही हैं। वहीं, हिना शहाब सीवान की ‘बेटी-बहू’ होने के नाते वोट मांग रही हैं।