उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सरकार पांच साल तक धन्नासेठों के लिए काम करती रही. जनता का पैसा लूटने वालों को बचाती रही है. उत्तर प्रदेश में तो आवारा पशुओं ने किसानों को बर्बाद कर दिया है. गन्ना किसानों का बुरा हाल है. किसानों की कर्ज माफी फाइलों में है.

मायावती ने कहा कि जुमलेबाजी और चौकीदारी की नाटकबाजी अब नहीं चलेगी. उन्होंने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि झूठे मुकदमे चलाकर विपक्ष के बड़े नेताओं को परेशान किया जा रहा है. मोदी सरकार ने देश के हर वर्ग को परेशान किया है. अब फिर चुनाव जीतने के लिए मोदी तरह-तरह के हथकंडे अपना रहे हैं. हवा-हवाई घोषणाएं कर रहे हैं, फर्जी शिलान्यास कर रहे हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘नोएडा को मेरी सरकार ने जिला बनाया. केंद्र और राज्यों की बाकी सरकारों ने इस क्षेत्र को विकसित करने की कोई योजना नहीं बनाई. अगर मोदी विकास करना चाहते थे तो चुनाव से पहले योजनाएं घोषित क्यों नहीं कीं.’’

उन्होंने आरोप लगाया कि पिछली सरकारों में बड़े भूमाफिया यहां की जमीन हड़पना चाहते थे. हमने इस जिले का नाम महान गौतमबुद्ध के नाम पर किया. गौतमबुद्ध यूनिवर्सिटी बनायी.

बसपा नेता ने कहा कि हमने जेवर में हवाई अड्डा बनाने की योजना बनाई, लेकिन पिछली कांग्रेस की केंद्र सरकार ने बनने नहीं दिया. अब मोदी सरकार ने पांच साल में भी हवाई अड्डा नहीं बनाया.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस में बोफोर्स तोप घोटाला हुआ तो इस सरकार में राफेल सौदे में गड़बड़ी हुई है. इस सरकार ने भी कांग्रेस की तरह सीबीआई, ईडी और आईटी का दुरुपयोग किया है.आजादी के बाद से अब तक केंद्र में कांग्रेस, बीजेपी और जो भी पार्टी रही हैं, उन्होंने बर्बादी के अलावा कुछ नहीं किया.

मायावती ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने प्रत्येक व्यक्ति को 15 लाख रुपए देने का वादा किया था, जो जुमला निकला. ‘सबका साथ, सबका विकास’ भी जुमला है. बीजेपी ने अपना घोषणापत्र जारी किया है. इन्हें यह संकल्प पत्र जारी करने का नैतिक हक नहीं था. पिछले चुनाव में जारी किए गए घोषणापत्र पर क्या किया, यह बताना चाहिए था. कांग्रेस के घोषणापत्र का भी कोई मतलब नहीं है.