नई दिल्ली: Lok Sabha Elections 2019 लोकसभा चुनाव से पहले दिल्ली में आम आदमी पार्टी (AAP) और कांग्रेस के बीच गठबंधन लगभग तय हो गया है। इस बाबत सोमवार को रात करीब दो बजे तक बैठकों का दौर चला। इसका ऐलान मंगलवार को दिन में कभी भी हो सकता है।

मंगलवार दोपहर या फिर शाम तक गठबंधन की स्थिति पूर्णतया स्पष्ट हो जाएगी। खबर है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को दिल्ली के नेताओं की एक मीटिंग बुलाई है, जिसमें AAP-कांग्रेस गठबंधन का ऐलान हो सकता है। गठबंधन होने की स्थिति में दिल्ली में लोकसभा की सात सीटों पर चुुनाव 3-3-1 के फॉर्मूले पर ही लड़ा जाएगा। जानकारी यह भी सामने आ रही है कि इस फॉर्मूले के तहत दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के बेटे और पूर्वी दिल्ली से पूर्व सांसद दिल्ली से चुनाव नहीं लड़ेंगे।

ये भी पढ़े क्या देश से बड़े हो गए हैं, नरेंद्र मोदी ?


शीला दीक्षित नहीं चाहतीं AAP- कांग्रेस गठबंधन

बीते दिनों दिल्ली प्रदेश कमेटी कांग्रेस (DPCC) अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने आम आदमी पार्टी (AAP) के साथ गठबंधन की संभावना को खारिज कर दिया था। प्रदेश कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने यह भी स्पष्ट रूप से कहा था कि आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस दिल्ली की सभी सात सीटों पर चुनाव लड़ेगी। उन्होंने कहा था कि हम आगामी चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री केजरीवाल दोनों को निशाना बनाएंगे। दोनों हमारे प्रतिद्वंद्वी हैं। साथ ही शीला ने यह भी कहा था कि हम दिल्ली की स्थिति के मुताबिक अपनी चुनावी रणनीति बनाएंगे। इसलिए ये देखना दिलचस्प होगा कि कांग्रेस पार्टी आलाकमान क्या घोषणा करता है।

ये भी पढ़ें 

मुंह में शांति बगल में छूरी- दोमुहें पाकिस्तान ने सीमा पर जमा किया गोला बारूद

पाकिस्तान का आरोप- अजमेर शरीफ के लिए पाकिस्तानियों को वीजा नहीं दे रहा भारत

पाकिस्तान चाहता था युद्ध भारत ने की शांति की पहल