सीपीआई नेता कन्हैया कुमार ने क्राउडफंडिंग के जरिए मात्र 28 घंटे में मिला 28 लाख रुपये जुटाए हैं. कन्हैया कुमार ने बिहार की बेगूसराय लोकसभा सीट से चुनौती पेश की है. बेगूसराय सीट से बीजेपी उम्मीदवार ने गिरिराज सिंह और आरजेडी ने तनवीर हसन को उम्मीदवार बनाया है.

दरअसल बिहार की बेगूसराय सीट से लोकसभा चुनाव लड़ने के ऐलान करने के साथ ही कन्हैया कुमार ने क्राउडफंडिंग के जरिए 70 लाख का फंड जुटाने का अभियान शुरू किया है. इसके साथ उन्होंने एक वीडियो जारी करते हुए लोगों से सहयोग देने की मांग की थी. गुजरात से जिग्‍नेश मेवानी भी कन्हैया कुमार की मदद के लिए बेगूसराय पहुंच चुके हैं. इसके साथ ही हार्दिक पटेल भी कन्हैया के पक्ष में चुनाव प्रचार करते नज़र आयेंगे. जिग्‍नेश मेवानी ट्विट्टर पर भी लोगों से कन्हैया कुमार का समर्थन करने की अपील की है.


उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा अहि कि भारतीय संसद भारतीय लोगों का है। संसद को और नए चेहरों की ज़रूरत है जो ग़रीबों और पददलितों की आवाज़ का प्रतिनिधित्व करें. इसके साथ ही एक दूसरे ट्वीट में जिग्नेश मेवानी ने लिखा कि हम से कई लोग कन्हैया कुमार के रूप में भारत के राजनीतिक भविष्य के लिए आशा देखते हैं। हमारे लिए कन्हैया की उम्मीदवारी मात्र एक चुनावी मामला नहीं है


2014 में बेगूसराय सीट पर बीजेपी को 39.72 फीसदी वोट मिले थे जबकि दूसरे नंबर पर रही राजद को 34.31 फीसदी वोट प्राप्‍त हुए. जबकि कन्‍हैया कुमार की पार्टी सीपीआई तीसरे नंबर पर रही थी. सीपीआई के प्रत्याशी को 17.87 फीसदी वोट मिले थे. बेगूसराय में क़रीब पौने 5 लाख भूमिहार मतदाता हैं जो बीजेपी के परंपरागत वोटर माने जाते हैं. वहीं इलाक़े में मुसलमान मतदाताओं की संख्या 5 लाख के करीब है. ऐसे में गिरिराज सिंह और कन्हैया कुमार के बीच कड़ा मुकाबला देखने को मिल सकता है. जबकि आरजेडी ने मुस्लिम उम्‍मीदवार तनवीर हसन को टिकट देकर मुसलमानों और यादव मतदाताओं को साधने की कोशिश की है.