पटना: लोकसभा चुनाव 2019 में चौथे चरण के मतदान के दौरान मुंगेर लोकसभा सीट के दो मतदान केंद्रों 339 और 340 पर हुए कथित बूथ कैप्चरिंग मामले में चुनाव आयोग ने सोमवार को कार्रवाई करते हुए ड्यूटी पर तैनात 20 कर्मियों को निलंबित कर दिया है।

इन दोनों बूथों पर आज पुन:मतदान कराया जा रहा है।मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एच आर श्रीनिवास ने सोमवार को बताया कि उक्त दोनों मतदान केंद्रो के सभी 20 कर्मियों के निलंबन की कार्रवाई शुरू कर दी गयी है। इनमें दोनों मतदान केंद्रों की पोलिंग पार्टी, पेट्रोलिंग पार्टी, मतदान अधिकारियों, मतदान कर्मियों, सेक्टर अधिकारी और उनके साथ चुनावी ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी तथा माइक्रो आव्जर्वर शामिल हैं। इनमें से 3—4 को छोड़कर बाकी सभी निलंबित किए जा चुके हैं।

उन्होंने कहा कि निलंबन के बाद इन कर्मियों के खिलाफ विभागीय जांच होगी और साथ ही आपराधिक मुदकमे भी चलेंगे। श्रीनिवास ने कहा कि इन मतदान केंद्रों के भीतर घुसकर बूथ कैप्चरिंग करने, मतदान केंद्र के बाहर एक निजी टीवी चैनल के पत्रकार के साथ मारपीट करने के मामले में नामजद 10 लोग अभी भी फरार हैं।

यह पूछे जाने पर कि इस मामले में एक प्रत्याशी के खिलाफ भी प्राथमिकी दर्ज की गयी है, श्रीनिवास ने कहा कि अभी तक हमलोगों के पास प्रत्याशी की संलिप्तता का कोई साक्ष्य सामने नहीं आया है। जांच के क्रम में ऐसी बात आने पर जो भी दोषी पाए जाएंगे उन सभी लोगों के खिलाफ कार्रवाई होगी।

उक्त प्रत्याशी जदयू उम्मीदवार राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह हैं। इन्हीं के समर्थकों पर मतदान केंद्रों में धांधली करने और पत्रकार के साथ मारपीट करने का आरोप है। लोकसभा चुनाव के चौथे चरण के तहत बिहार में मुंगेर सहित पांच सीटों पर 29 अप्रैल को मतदान हुआ था।

भाषा

(ये खबर सिंडिकेट फीड से ऑटो-पब्लिश की गई है. हेडलाइन को छोड़कर चौथी दुनिया  ने इस खबर में कोई बदलाव नहीं किया है.)