नयी दिल्ली: भाजपा ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा पिछले वर्ष कैलाश मानसरोवर यात्रा के दौरान चीनी मंत्रियों से मुलाकात संबंधी बयान को लेकर शुक्रवार को निशाना साधते हुए सवाल किया कि वे चीनी दुष्प्रचार (प्रोपेगेंडा) का हिस्सा क्यों बन रहे हैं ।

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ राहुल गांधी की मानसरोवर यात्रा झूठ थी। वो वहां चीनी मंत्रियों से मिलने गए थे ।’’

उन्होंने कहा कि राहुल गांधी की मानसरोवर यात्रा मात्र एक बहाना थी क्योंकि उन्हें चीनी मंत्री से मिलना था और आज उड़ीसा में उन्होंने चीनी मंत्रियों के साथ बैठक के बारे में बताया।

ओडिशा में शुक्रवार को राहुल गांधी ने कहा “जब मैं कैलाश गया तो मैं वहां उनके कुछ मंत्रियों से मिला जिन्होंने बताया कि चीन में रोजगार का सृजन कोई समस्या नहीं है।”

भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि राहुल गांधी देश को बताएं कि उन्होंने विदेश मंत्रालय और भारतीय दूतावास के प्रोटोकॉल का पालन क्यों नहीं किया ।

पात्रा ने कहा कि राहुल गांधी एक सामान्य नागरिक नहीं हैं। भारतीय दूतावास को राहुल गांधी द्वारा सूचित क्यों नहीं किया गया कि वह चीनी मंत्रियों से मिल रहे हैं ? उन्होंने सवाल किया कि वे (राहुल) चीनी प्रोपेगेंडा का हिस्सा क्यों बन रहे हैं ।

उन्होंने जोर दिया कि जब पिछले वर्ष राहुल गांधी कैलाश मानसरोवर यात्रा पर गए थे तब भाजपा ने प्रेस कांफ्रेंस की थी । उस समय चीनी राजदूत की ओर से विदेश मंत्रालय को एक पत्र मिला था कि वह खुद हवाई अड्डे से राहुल गांधी को यात्रा पर विदा करना चाहते हैं और इसके लिये समारोह लाउंज चाहिए । ऐसी व्यवस्था आधिकारिक यात्रा पर जाने वालों के लिये होती है, निजी यात्रा पर जाने वालों के लिये नहीं ।

पात्रा ने कहा कि भाजपा ने जो कहा वो फिर सही साबित हुआ। उन्हें बताना चाहिए कि वे सभी किससे मिले, और उन्होंने प्रोटोकॉल का पालन क्यों नहीं किया?”