मध्य प्रदेश पुलिस को एक बड़ी कामयाबी हाँथ लगी है। पुलिस के हाँथ वो तेंदुआ लगा गया है जो सिर्फ और सिर्फ कड़कनाथ मुर्गे का शौक़ीन था। और सिर्फ मुर्गे के शिकार एक लिए तेंदुआ गाँव में दाखिल होता था। ये शौक़ीन तेंदुआ शहर के ठेल्काबोर्ड के पोल्ट्री फार्म में लगातार एक सप्ताह से तेंदुआ घुसकर मुर्गियों को अपना शिकार बना रहा था। जिसकी जानकारी वन विभाग को दी गई थी। वन विभाग ने पोल्ट्रीफार्म में पिंजरा लगा दिया और बीती रात फिर शिकार करने पहुंचा तेंदुआ पिंजरे में कैद हो गया। तेंदुए के पिंजरे में कैद होने की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची वन विभाग की टीम ने तेंदुए को पकड़कर शहर से दूर जंगल में छोड़ दिया है। तब जाकर गांव के लोगों ने राहत की सांस ली।

दरअसल तेंदुए ने अब तक करीब 70 से अधिक कड़कनाथ मुर्गों को अपना शिकार बना चुका था। जिससे गांव और दुकानदार दहशत में थे। वन विभाग ने कई दफा तेंदुए को पकड़ने के लिए पिंजरा लगाया, लेकिन वो उसमें फंस नहीं रहा था। लोग तेंदुए के खौफ की वजह से शाम 6 बजते ही अपने घरों के दरवाजे बंद कर अंदर दुबक कर रहते थे। बता दें कांकेर शहर और उसके आस-पास के इलाके में लंबे समय से हिंसक वन्य जीवों का आतंक रहा है। पिछले दिनों मॉर्निंग वॉक पर निकले एक व्यक्ति पर तेंदुए ने हमला किया था। इसके अलावा यहां भालू भी शहर में अक्सर स्वतंत्र विचरण करते देखे जाते हैं। कुछ माह पूर्व दो भालुओं को वन विभाग ने एक राइस मील में कैद किया था।