अमेठी से बीजेपी उम्मीदवार स्मृति ईरानी ने एक अनूठी मिशाल पेश की है. इसका एक वीडियो भी सामने आया है जो न सिर्फ हैरान करने वाला है बल्कि उन लोगों को करारा तमाचा है जो राजनीति को मानवीय मूल्यों से ऊपर आंकतें हैं. तो चलिए आपको बताते हैं की आखिर पूरा मामला है क्या?

दरअसल चुनाव प्रचार के सिलसिले में अमेठी पहुंची स्मृति ईरानी को जैसे ही पता चला कि मुंशीगंज के पश्चिम दुआरा गांव में आग लगी है वह तुरंत गांव की ओर निकल पड़ी. जहां न केवल उन्होंने लोगों को ढांढस बंधाया बल्कि नल से पानी निकालकर आग बुझाने में लोगों की मदद करती भी नजर आई.

[KGVID]https://www.chauthiduniya.com/wp-content/uploads/20190428183744/smriti.mp4[/KGVID]

मामला अमेठी के मुंशीगंज के पश्चिम दुआरा के गोवर्धनपुर गांव का है जहां के सीवान में गेहूं के खेत में अचानक आग लग गई. तेज हवाओं के चलते देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया और गांव की तरफ बढ़ने लगी. जैसे ही स्मृति ईरानी को इसकी जानकारी मिली तो वे तुरंत ही अपना तय कार्यक्रम छोड़कर घटना स्थल की ओर रवाना हो गई. हालांकि एक समय खेतों में जलती फसल को देखकर वे भावुक भी हो गई. इसके बावजूद वे लोगों की मदद करती नज़र आईं. उन्होंने खुद नल चलाकर बाल्टियों में पानी भी भरा और आग बुझवाने में मदद की. अपने नेता को लोगों की मदद करता देखकर भाजपा कार्यकर्ता भी आग बुझाने में जुट गए.

इस दौरान स्मृति ईरानी ने किसान परिवार की महिलाओं को ढांढस बंधाया और धैर्य रखने को कहा. साथ ही उन्होंने जिले के एसडीएम को फोन कर पीड़ितों की मदद करने का भी आदेश दिया.