देश की राजधानी दिल्ली में जबरन “जय श्री राम” के नारे लगवाने का मामला सामने आया है. जो सोशल मीडिया पर सुर्ख़ियों में है. घटना दिल्ली के कनॉट प्लेस इलाक़े की है. जहां कुछ लोगों ने जबरन मशहूर डॉक्टर और लेखक डॉ. अरुण गडरे पर जय श्री राम के नारे लगाने का दबाव बनाया. घटना बीते 26 मई 2019 की बताई जा रही है.

एक अंग्रेजी अखबार ने दावा किया है कि 26 मई की सुबह जब डॉ. अरुण गडरे दिल्ली में कनॉट प्लेस के पास से गुजर रहे थे तो हनुमान मंदिर के सामने 5-6 युवक आए और उनका धर्म पूछने लगे. इतना कहते ही उन्होंने जय श्री राम के नारे लगाने को मजबूर किया. हालांकि घटना के तीन दिन बीत जाने के बाद भी उन्होंने पुलिस में मामला दर्ज नहीं कराया है.

महाराष्ट्र के पुणे के रहने वाले डॉ. अरुण गडरे जाने मने स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर हैं. उनके मित्र और वरिष्ठ पत्रकार अनंत बगनेतकर ने इस घटना के बारे में जानकारी दी है. अनंत का कहना है कि ‘डॉ. अरुण को बिजनौर में एक लेक्चर देना था. इसके लिए वे दिल्ली रुके हुए हैं. जहां 26 मई की सुबह कुछ लोगों ने उन्हें जबरन जय श्री राम के नारे लगाने को कहा. वहीं इस खुलासे के बाद डॉ. अरुण गडरे की तरफ से भी एक बयान जारी किया गया है. अपने इस बयान में उन्होंने कहा कि इस घटना से वे काफी हैरान थे. लेकिन किसी तरह का बवाल नहीं चाहते थे.

वैसे यह कोई पहला मामला नहीं है. बीते कुछ दिनों में देश के अलग अलग हिस्सों से लोगों को जबरन जय श्री राम ने नारे लगाने के लिए मजबूर करने के कई ममाले सामने आये हैं. कुछ मामलों में लोगों का धर्म पूछकर उसके साथ मारपीट भी की गई है. ताजा मामला हरियाणा का है जहां

आपको बता दें कि इस प्रकार की कई घटनाएं इन दिनों सुर्खियों में हैं. बीते दिन हरियाणा के गुरुग्राम में भी ऐसी ही घटना सामने आई थी, जब एक मुस्लिम युवक के जय श्री राम का नारा लगाने से इंकार करने पर उसके साथ मारपीट की गई तो वहीं मध्यप्रदेश के सिवनी की घटना से हर कोई हैरान है. जहां बीफ ले जाने के शक में कुछ लोगों ने एक युवक की बर्बरता से पिटाई की थी.