नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने वाली साध्वी प्रज्ञा सिंह को पीएम नरेन्द्र मोदी ने अभी माफ़ नहीं किया है. शायद यही वजह है कि संसद के सेंट्रल हाल में शनिवार को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन का नेता चुने जाने के बाद कार्यवाहक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जब वहां मौजूद सभी सांसदों ने बधाई दी. तो ऐसे में पीएम मोदी ने साध्वी प्रज्ञा सिंह को नजर अंदाज कर दिया. जिसका एक वीडियो भी सामने आया है.  जिसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी साध्वी को अभिवादन के दौरान नजरंदाज करते देखे जा सकते हैं.

गौरतलब लोकसभा चुनाव के दौरान नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहने पर देश की सियासत  में भूचाल आ गया था. विपक्ष ने बीजेपी को घेरते हुए जहां साध्वी के बयान की कड़ी आलोचना की थी तो वहीं बीजेपी ने भी साध्वी के बयान से खुद को अलग करते हुए साध्वी पर अनुशासत्मक कार्रवाही की बात कही थी.

दरअसल मालेगांव ब्लास्ट की आरोपी साध्वी प्रज्ञा ने चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि नाथूराम गोडसे देशभक्त थे, हैं और रहेंगे. हालांकि बाद में साध्वी ने माफी मांग ली थी. लेकिन विवाद लगातार बढ़ता जा रहा था.जिसके चलते अमित शाह के बाद नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीट करके साध्वी को आड़े हाथों लिया था. पीएम ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि महात्मा गांधी और नाथूराम गोडसे को लेकर जो भी बातें की गईं हैं, वो भयंकर खराब हैं. ये बातें पूरी तरह से घृणा के लायक हैं, सभ्य समाज के अंदर इस प्रकार की बातें नहीं चलती हैं. पीएम मोदी ने कहा कि भले ही इस मामले में उन्होंने माफी मांग ली हो, लेकिन मैं अपने मन से उन्हें कभी भी माफ नहीं कर पाऊंगा.

भोपाल लोकसभा सीट पर साध्वी का मुकाबला कांग्रेस के उम्मीदवार दिग्विजय सिंह से था. आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में सबसे ज्यादा 30 उम्मीदवार भोपाल से मैदान में थे. यहां पर 12 मई को हुए मतदान में इस ससंदीय क्षेत्र के इतिहास में सबसे ज्यादा 65.69 फीसदी मतदान दर्ज किया गया था. वहीं बड़े अंतर से जीत दर्ज करने के बाद साध्वी ने भोपाल की जनता का आभार प्रकट करते हुए कहा था कि मेरी विजय में धर्म की विजय है, अब अधर्म का नाश होगा.