लोकसभा चुनाव के ख़त्म होते ही नक्सलियों ने बड़ी दस्तक दी है। नक्सलियों के एक बड़े दस्ते ने झारखंड के सरायकेला में कुचाई इलाके में 209 कोबरा बटालियन और झारखंड पुलिस की टुकड़ी पर नक्सलियों ने आईईडी धमाका किया। सुरक्षा बल और पुलिस का दस्ता स्पेशल ऑपरेशन पर था। इसी बीच आईईडी धमाका हुआ जिसमें कोबरा बटालियन और झारखंड पुलिस के 15 जवान जख्मी हो गए। जवानों की गंभीर स्थिति को देखते हुए मंगलवार सुबह 6।50 में उन्हें रांची एयरलिफ्ट किया गया। जिस इलाके में माओवादियों ने धमाके कर पुलिस को निशाना बनाने की कोशिश की, वहां पर चुनाव समाप्ति के ठीक दूसरे दिन भी सुरक्षाबलों पर नक्सलियों ने हमला किया था।

अधिकारियों ने बताया कि ऐसा संदेह है कि आईईडी को कच्ची सड़क के नीचे दबा कर रखा गया था। उन्होंने बताया कि कोबरा के आठ और राज्य पुलिस के तीन घायल जवानों को विमान के जरिए राज्य की राजधानी रांची लाया गया। उन्होंने बताया कि संयुक्त दल का नेतृत्व कोबरा की 209वीं बटालियन कर रही थी।

सूत्रों की मानें तो, ख़ुफ़िया एजेंसियों को ये इनपुट मिला था की भाकपा माओवादियों का सुप्रीमो और कुख्यात नंबला केशवराव उर्फ बसवाराज झारखंड में संगठन को मजबूत करने के लिए सरायकेला-खरसांवा के इलाके में बैठक कर चुका है। बसवाराज ने इसकी जिम्मेदारी 25 लाख के ईनामी पतिराम मांझी उर्फ अनल को दी है। मिलिट्री कमीशन में अनल को प्रमोशन दिया गया है। अनल वर्तमान में 15 लाख के ईनामी महाराज प्रमाणिक और दस लाख के ईनामी अमित मुंडा के साथ इलाके में कैंप कर रहा है। इन्हीं नक्सलियों की ओर से इस इलाके में पुलिस पर लगातार हमला किया जा रहा है।

गढ़चिरौली में हुए थे 15 जवान शहीद
इससे पहले नक्सलियों ने महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में भी 30 अप्रैल को नक्सली हमला किया था। जिसमे पुलिस के 15 जवान शहीद हो गए थे। हमले में बस ड्राइवर की भी मौत हुई थी। इससे पहले इसी इलाके में नक्सलियों ने रोड निर्माण में लगे 30 वाहनों को आग लगा दी थी। नक्सली हमला कुरखेड़ा से छह किमी दूर कोरची मार्ग पर हुआ था। महाराष्ट्र पुलिस के जवान निजी बस से गढ़चिरौली की ओर जा रहे थे। यह इलाका महाराष्ट्र-छत्तीसगढ़ सीमा पर है।