पुलवामा आतंकी हमले के बाद जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों लगातार ढूंढ ढूंढ कर आतंकियों के ठिकानों को ख़त्म कर रहे हैं ।इसी अभियान शुक्रवार को सुरक्षाबलों ने सोपोर में एक आतंकी को ढेर कर दिया। ये एनकाउंटर गुरुवार से ही जारी है। हमले के बाद से लगातार सर्च ऑपरेशन कर रही सेना कि एक टुकड़ी ने बारामूला जिले के सोपोर के वारपोरा क्षेत्र में कासो (कॉर्डन एंड सर्च ऑपरेशन) शुरू किया तो उन्हें गनशॉट्स सुनाई दिए। सुरक्षाबलों ने जब उसे वेरिफाई करने वहां पहुंची तो उनपर फायरिंग शुरू हो गई। जिसके बाद से सुरक्षाबलों ने भी जवाबी कार्यवाही शुरू कर दी है। इस एनकाउंटर में एक आतंकी को मार गिराया गया है। बताया जा रहा है कि दो से तीन आतंकी छिपे हैं और सुरक्षाबलों पर फायरिंग कर रहे हैं।

सेना का ऑपरेशन-60

पुलवामा हमले के बाद सेना को इनपुट्स मिले हैं उसके मुताबिक, इस वक़्त पाकिस्तान से सरहद पार कर घुसने वाले करीब 60 आतंकी एक्टिव है, इसमें 35 पाकिस्तानी आतंकी हैं। इन आतंकियों के खिलाफ सुरक्षाबलों ने अभियान छेड़ रखा है। इस अभियान का नाम ऑपरेशन-60 रखा गया है। इसके पहले सेना ने ऑपरेशन-25 चलाया था। इसके तहत सुरक्षाबलों ने आतंकी गाजी राशिद को मार गिराया था।

दूसरी तरफ भारतीय सेना कि मुस्तैदी को देखते हुए पाकिस्तानी सीमा पर भी हलचल बढ़ गई है। LoC पर पाकिस्तान की ओर से लगातार सीजफायर का उल्लंघन किया जा रहा है। गुरुवार को भी पुंछ में पाकिस्तान की ओर से गोले दागे गए। सुरक्षाबलों ने पाकिस्तान की इस हरकत का मुंहतोड़ जवाब दिया। शोपियां में सेना के कैंप के बाहर संदिग्ध गतिविधि देखी गई। इसके बाद कैंप के गेट पर तैनात संतरी ने फायरिंग की।

अब तक सेना के 45 जवान शहीद

पुलवामा में आतंकी हमले के बाद से सेना कि टीम अलग अलग ठिकानों पर आतंकियों के खिलाफ अपना ऑपरेशन चला रहे हैं। पुलवामा हमले के बाद से अब तक सेना के 45 जवान शहीद हो चुके हैं। सबसे पहले फिदाइन आतंकी आदिल अहमद डार ने विस्फोटक से लदी गाड़ी जवानों से भरी बस में घुसा दी। इसके बाद हुए धमाके में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। इस हमले के ठीक दो दिन बाद यानि 16 फरवरी को जम्मू कश्मीर के रजौरी जिले में नियंत्रण रेखा पर बारूदी सुरंग के विस्फोट में मेजर चित्रेश सिंह बिष्ट शहीद हो गए।

इसके दो दिन बाद यानि 18 फरवरी को पुलवामा के पिंगलिना में एक मुठभेड़ के दौरान सेना के एक मेजर समेत जवान शहीद हो गए। यानि पिछले एक हफ्ते में हमारे 45 जवान शहीद हो चुके हैं।