दिल्ली में तैनात एक आईपीएस अधिकारी अमित निगम के खिलाफ उनकी पत्नी ने दहेज उत्पीड़न का मामला दर्ज कराया है। नौचंदी थाना पहुंच कर महिला ने आईपीएस पति पर मारपीट और पांच करोड़ रुपए के दहेज के लिए उन्हें बुरी तरह पीटने का आरोप लगाया है। इतना ही नहीं महिला ने अपने पति के दूसरी महिलाओं से संबंध होने के आरोप भी लगाए हैं। साथ में ये भी फ़रियाद लगाईं है की वर्दी वाले एक जल्लाद वर्दीवाले को न बचाएँ।

32 साल की पत्नी नम्रता सिंह का आरोप है कि उसका पति आईपीएस अधिकारी अमित निगम दहेज के लिए उसे जानवरों की तरह पीटता है। IPS अमित निगम 2015 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं और वर्तमान में दिल्ली स्थित पीएसी में एडिशनल कमांडेंट हैं। मेरठ के नौचंदी थाने में पुलिस ने 17 मई को नम्रता सिंह की शिकायत पर अमित निगम के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। नम्रता जब थाने में रिपोर्ट लिखवाने गईं तो उनकी आंखें सूजी हुई थी और उनके चेहरे पर चोट के निशान थे।

नम्रता सिंह और अमित निगम की शादी मेरठ में 2015 में हुई थी। नम्रता का आरोप है कि शादी के 10 दिन के बाद से ही उसके ससुराल वालों ने एक करोड़ दहेज की मांग की। दहेज की मांग को लेकर अक्सर उनके साथ जानवरों की तरह सलूक किया जाने लगा।

जब अमित निगम का नागालैंड के दीमापुर में ट्रांसफर हुआ तो नम्रता भी साथ गईं, लेकिन वहां भी अमित ने दहेज के लिए उनके साथ मारपीट जारी रखी। इसके अलावा अमित के दूसरी महिलाओं से भी संबंध थे। नम्रता ने बताया कि 30 अप्रैल को जब वो ऑफिस से घर लौटीं तो उनके पति ने अपने बेल्ट से इतनी बुरी तरह पिटाई की कि वो बेहोश हो गई।

नम्रता ने बताया कि जब उन्हें होश आया तो किसी तरह से वो अपनी एक सहेली के पास पहुंचीं और उसकी मदद से वो पुलिस में शिकायत कर पाईं। मेरठ पुलिस ने फिलहाल नम्रता की शिकायत पर केस दर्ज कर लिया है और मामले की जांच चल रही है।

नम्रता प्राइवेट कंपनी में गुड़गांव में नौकरी करती है। पत्नी का आरोप है कि पति अमित निगम दहेज की मांग पूरी नहीं होने पर उससे मारपीट करता है। शादी के बाद से ही उसका ससुराल में उत्पीड़न शुरू हो गया। नम्रता ने बताया कि 30 अप्रैल 2019 को आईपीएस पति ने उसको ससुराल में इतना पीटा की वह बेहोश हो गई। पति उसको कमरे में बद करके चला गया। होश आने के बाद वहां से निकली और अपनी सहेली के पास पहुंची।

परेशान नम्रता ने इसके बाद शनिवार की देर रात नौचंदी थाने में पति, सास और ससुर के खिलाफ केस दर्ज कराया। इस बारे में एसपी सिटी डा. अखिलेश नारायण सिंह से बात की गई तो उनका कहना था कि आईपीएस की ससुराल की ओर से मुकदमा दर्ज कराया गया है। वहीं आईपीएस के परिजनों ने भी मुकदमा दर्ज करने के लिए थाने में तहरीर दी है। दोनों पक्षों में समझौते के प्रयास किए जा रहे हैं।