लखनऊ के चिनहट के सराय शेख गांव में ज़मीं विवाद में इलाके के दबंगों ने राजस्व अधिकारियों की मौजूदगी में महंत दिनेशानंद सरस्वती (40) को गोलियों से भून डाला। घटना बुधवार दोपहर उस वक्त हुई जब नायब तहसीलदार, कानूनगो और लेखपाल समेत अन्य अधिकारी जमीन की पैमाइश करने गांव पहुंचे थे। इसी बीच हिस्ट्रीशीटर कोटेदार व उसके भाई ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। इसमें पुजारी की मौत हो गई, उनका ड्राइवर राम सुमिरन रावत घायल हो गया।


फायरिंग होते ही अधिकारी भाग खड़े हुए और गांव में अफरातफरी मच गई। दुस्साहसिक घटना की सूचना पर एसएसपी कलानिधि नैथानी, एएसपी नॉर्थ सुकीर्ति माधव समेत अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे। पुलिस ने मुख्य आरोपी सुशील यादव व उसके सहयोगी ग्राम प्रधान दिलीप विश्वकर्मा को गिरफ्तार कर लिया है। अन्य आरोपियों का पता लगाया जा रहा है। एसएसपी ने बताया कि चिनहट के नंदपुर में ‘पीठाधीश्वर संत पल्टूदास कुटिया आश्रम’ है। सुलतानपुर के ऊंचगांव निवासी दिनेशानंद सरस्वती इस आश्रम के कर्ताधर्ता थे।

दिनेशानंद सरस्वती की हत्या की खबर मिलते ही परिवार में कोहराम मच गया। पत्नी खुशबू ने बताया कि सुशील यादव व उसके साथी उनके पति को जान से मारने की धमकी दे चुके थे। इसकी जानकारी स्थानीय पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों को भी थी।