मुंबई में डॉक्टर पायल ताडवी की मौत के मामले में अब नए मोड़ पर आ गया है। पायल के पति डॉक्टर सलमान का आरोप है कि उनकी पत्नी पायल ने ख़ुदकुशी नहीं कि है बल्कि उसकी हत्या हुई है। इसी लिए मुंबई पुलिस उन तीन डॉक्टरों को बचाने में जुटी है जिनपर पायल कि हत्या का आरोप है। वहीँ मुंबई में नायर अस्पताल के बाहर पायल को इन्साफ दिलाने के लिए आंदोलन और तेज़ हो गया है है।

वहीँ मुंबई पुलिस अब तक इस मामले में उन तीन महिला डॉक्टरों को ढूढ़ने में नाकाम रही है जिनपर रैगिंग के दौरान पायल के उत्पीड़न करने का आरोप लगा है। मामले कि तफ्तीश कर रही मुंबई पुलिस के मुताबिक पायल की आत्महत्या के बाद से ही तीनों महिला डॉक्टर गायब है। पुलिस ने इन सभी को ढूढने के लिए महाराष्ट्र के इनके घरों के साथ-साथ कई इलाकों में दबिश दे रही है लेकिन उन्हें अबतक कोई कामयाबी नहीं मिली है। मुंबई पुलिस का कहना है कि तीनों के फोन बंद है और उन्हें इनलोगों का कोई लोकेशन नहीं मिल पा रही है।

इस मामले में पायल के परिजन की शिकायत पर अग्रीपाडा पुलिस नायर अस्पताल में कार्यरत तीन वरिष्ठ डॉक्टरों डॉ. हेमा आहुजा, डॉ. भक्ति महिरे और डॉ. अंकिता खंडेलवाल के खिलाफ आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर घटना की जांच कर रही है। मुंबई पुलिस के मुताबिक आत्महत्या से पहले पायल ने अपनी मां से फोन पर कहा था कि वह अपनी तीनों सीनियर डॉक्टरों के उत्पीड़न से परेशान हो गई है, अब वह इसे बर्दाश्त नहीं कर पा रही है. वे तीनों उसे आदिवासी और जातिसूचक शब्दों से बुलाती थी.

गौरतलब है कि मुंबई के बीवाईएल नायर अस्पताल में गायनेकोलॉजी सेकंड ईयर की रेजिडेंट डॉक्टर पायल तड़वी ने अपने सीनियर डॉक्टरों के उत्पीड़न से तंग आकर 22 मई को आत्महत्या कर ली थी। तभी से यह मामला सुर्खियों में बना हुआ है। अब पायल के पति ने तीनों आरोपी डॉक्टरों पर पायल की हत्या का आरोप लगाकर मामले को और पेचीदा बना दिया है।