दिल्ली हिंसा के दौरान कई वीडियो वायरल हुए, जिसमें सबसे ज्यादा चर्चा पुलिसकर्मी पर पिस्टल ताने एक शख्स की थी. पुलिस अभी तक आरोपी शख्स को गिरफ्तार नहीं कर पाई है. हालांकि, पहले खबर आई थी कि आरोपी शख्स को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है, लेकिन पुलिस ने खंडन करते हुए कहा कि अभी आरोपी युवक गिरफ्तार नहीं किया गया है. वह फरार है.
इस मामले में आम आदमी पार्टी (आप) विधायक सौरभ भारद्वाज ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर से सवाल पूछा, ‘दिल्ली पुलिस द्वारा ऐसे फेक न्यूज कैसे फैलाए जा सकते हैं? यह खबर फैलाई? दिल्ली पुलिस कमिश्नर को इस पर जवाब देना चाहिए.’ हालांकि, पुलिस ने अभी तक साफ नहीं किया है कि पुलिसकर्मी पर पिस्टल तानने वाला शख्स कौन था और उसे हिरासत में लिया गया था या नहीं.

कौन है आरोपी शख्स?
इससे पहले खबर आई थी कि आरोपी शख्स का नाम शाहरुख है और वह दिल्ली के थाना उस्मानपुर का रहने वाला है. हालांकि, पुलिस की तरफ से नाम की कोई पुष्टि नहीं की गई है. सूत्रों के मुताबिक, पुलिस का अभी पूरा फोकस हिंसा को रोकने पर है, यही वजह है कि चाहे वह हेट स्पीच का मामला हो या फिर फायरिंग करने वाले शख्स के केस में अभी कोई कार्रवाई नहीं कर रही है.

हेड कॉन्स्टेबल पर ताना था पिस्टल
आरोपी शख्स ने जिस पुलिसकर्मी पर पिस्टल ताना था, उसका नाम हेड कॉन्स्टेबल दीपक दहिया है.दीपक दहिया की उम्र 31 साल है और वह मूलत हरियाणा के सोनीपत के रहने वाले हैं. प्रदर्शनकारी का डटकर मुकाबला करने के बाद दीपक दहिया सुर्खियों में आ गए थे.

दीपक दहिया ने बताया था पूरा घटनाक्रम
हेड कॉन्स्टेबल दीपक दहिया ने आजतक से खास बातचीत में कहा था कि शख्स सामने से फायरिंग करते हुए आ रहा था. दीपक के मुताबिक, दूसरे लोग उसकी फायरिंग की जद में न आ जाएं, इसके लिए उन्होंने उसे बीच में ही रोक लिया. उन्होंने कहा कि सबसे पहले तो हमें हमारे पब्लिक की जान बचानी है… हमें तो लग जाएगी यह तो बाद की बात है. पहले तो जिनके लिए नौकरी कर रहे हैं, वे जरूरी हैं.