CAA NRC Protest Shaheen Bagh Jaffrabad: केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने रविवार को कहा कि दिल्ली के शाहीन बाग और जाफराबाद में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन के पीछे पाकिस्तान की साजिश है। पाकिस्तान ने इसे पूरे षड्यंत्र को रचा है। एएनआई के अनुसार, गिरिराज सिंह ने ट्वीट किया, “धारा 370 और 35A के निरस्त होने के बाद आईएसआई प्रायोजित कट्टरपंथी दिल्ली को पुराने कश्मीर में बदलने पर तुले हुए हैं। जाफराबाद और शाहीन बाग में विरोध प्रदर्शन पाकिस्तान की साजिश का नतीजा है।”

नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के विरोध में शनिवार की रात जाफराबाद मेट्रो स्टेशन क्षेत्र में 1,000 से अधिक महिलाओं सहित बड़ी संख्या में लोग एकत्र हुए। प्रदर्शनकारी, जिनमें ज्यादातर महिलाएं शामिल थीं, “नो एनआरसी” संदेश के साथ टोपी पहने हुए थे। वे हाथों में तिरंगा लेकर “आज़ादी” के नारे लगा रहीं थीं। जाफराबाद मेट्रो स्टेशन क्षेत्र में चल रहे विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (DMRC) ने रविवार को सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए स्टेशन के प्रवेश और निकास द्वार को बंद कर दिया था।

पीटीआई के अनुसार, बुशरा नामक महिला ने कहा कि सीएए को वापस लिए जाने तक प्रदर्शनकारी यहां से नहीं हटेंगे। सामाजिक कार्यकर्ता फहीम बेग ने कहा कि लोग इस मामले पर सरकार के रुख से नाराज हैं। सीएए के खिलाफ मुख्य सीलमपुर मार्ग और कर्दमपुरी के पास प्रदर्शन पहले से ही जारी है। जाफराबाद में यह प्रदर्शन ऐसे समय किया जा रहा है जब शाहीन बाग में पिछले दो महीने से सीएए का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों को हटाने का प्रयास जारी है।

पिछले साल दिसंबर महीने में भी हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारियों ने तख्तियां और तिरंगा लेकर जाफराबाद मेट्रो स्टेशन पर सीएए के खिलाफ नारे लगाए थे। सीएए कानून पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से धार्मिक उत्पीड़न से भाग रहे हिंदू, ईसाई, सिख, बौद्ध और पारसी समुदायों से शरणार्थियों को नागरिकता देने का प्रयास करता है। इसके तहत वैसे शरणार्थियों को नागरिकता दी जाएगी 31 दिसंबर 2014 को या उससे पहले भारत में आ चुके हैं।