मध्यप्रदेश के बालाघाट लोकसभा सीट से बीजेपी के मौजूदा सांसद बोध सिंह भगत का टिकट कटने पर उनके समर्थकों ने जम कर हंगामा किया. वहीं प्रदर्शनकारियों पर काबू पाने के लिए पुलिस को हल्का बल प्रयोग करना पड़ा. बालाघाट लोकसभा सीट से ढाल सिंह बिसेन को प्रत्याशी बनाए जाने पर बोध सिंह भगत के समर्थकों ने नाराजगी जताई है. पार्टी के फैसले से नाराज भगत के समर्थक बिसेन की उम्मीदवारी रद्द करने की मांग कर रहे हैं. गौरतलब है कि बीजेपी ने 29 मार्च को ढाल सिंह बिसेन को बालाघाट लोकसभा सीट से प्रत्याशी बनाया है.

आज सुबह 11 बजे से यहां पार्टी के जिला कार्यालय में इस सीट पर पार्टी की रणनीति बनाये जाने को लेकर बैठक होनी थी, लेकिन मौजूदा सांसद के 500 से अधिक समर्थक 30 से अधिक वाहनों से भाजपा कार्यालय पहुंचे और पार्टी के कार्यालय पर ताला लगा दिया और वहां नारेबाजी करने लगे.

इस दौरान भगत एवं बिसेन के समर्थकों में तू-तू, मैं-मैं होती रही.जिसके बाद पार्टी विधायक एवं मध्य प्रदेश के पूर्व मंत्री गौरीशंकर बिसेन लगभग तीन बजे भाजपा प्रत्याशी ढाल सिंह बिसेन को लेकर भाजपा कार्यालय दल-बल के साथ पहुंचे और पुलिस हस्तक्षेप के बाद भगत के समर्थकों को तितर-बितर किया गया और कार्यालय का ताला तोड़कर बैठक करीब चार घंटे विलंब से शुरू हुई.

भाजपा के बालाघाट जिला अध्यक्ष रमेश रंगलानी ने बताया, “टिकट का निर्णय पार्टी ने लिया है.कार्यकर्ताओं के असंतोष एवं आज के घटनाक्रम के संबंध में पार्टी आला कमान को अवगत करा रहा हूं.” इस बीच, पार्टी कार्यकर्ताओं ने ऐलान कर दिया कि अगर बोध सिंह भगत को टिकट नहीं मिला तो लगभग 300 से अधिक पार्टी कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे देंगे. इस ऐलान के बाद बालाघाट से लेकर भोपाल तक भाजपा में खलबली मच गई.आपको बात दें कि वर्ष 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में बालाघाट सीट से भगत लगभग एक लाख वोटों से चुनाव जीते थे.