लोकसभा चुनाव से पहले राफेल की लड़ाई संसद से लेकर सड़क तक लड़ी गई. राफेल को लेकर जब मोदी सरकार बैकफुट पर थी, तब PM मोदी ने मोर्चा संभाला और बोफोर्स के मामले को हवा दी गई. सिख दंगा, भोपाल त्रासदी और अब INS विराट पर छुट्टियां. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इन चार बड़े मुद्दों से अगले दो चरणों के लिए कांग्रेस पर आरोपों की बारिश कर दी है.

ऐसे में अब निगाहें इस बात पर भी होंगी कि कांग्रेस किस तरह भाजपा को इस पर जवाब देती है.छठे और सातवें चरण से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को फ्रेम में लाकर कांग्रेस को बैकफुट पर लाने की कोशिश की है. राहुल गांधी जब राफेल में कथित भ्रष्टाचार का आरोप लगा रहे थे तो पीएम की तरफ से बोफोर्स मामले को उछाला गया.

पीएम मोदी ने एक रिपोर्ट को ट्विटर पर शेयर किया और जनसभा में बताया कि राजीव गांधी अपने परिवार, दोस्तों और ससुराल वालों के साथ INS विराट पर एक द्वीप में छुट्टियां मनाने गए थे. जिसको लेकर कांग्रेस बैकफुट पर है, इस मुद्दे पर अभी तक कांग्रेस के किसी बड़े नेता का बयान नहीं आया है. लेकिन जिस तरह से प्रधानमंत्री इस मुद्दे पर आगे बढ़ रहे हैं इससे संकेत साफ हैं कि अगले दो चरणों में ये मुद्दा और भी गर्मा सकता है.

कांग्रेस लगातार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राफेल डील में कथित घोटाले का आरोप लगा उन्हें चोर कह रही है और चौकीदार चोर है का नारा लगा रही है. इसके जवाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले मैं भी चौकीदार का नारा निकाला, तो अब उन्होंने सीधा पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को निशाने पर ले लिया.

राहुल गांधी ने कहा था कि सेना किसी की पर्सनल प्रॉपर्टी नहीं है. इस आरोप का जवाब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फिर राजीव गांधी को आड़े हाथों लेते हुए दिया. पीएम मोदी ने राजीव गांधी की एक पुरानी हॉलिडे ट्रिप का खुलासा किया और आरोप लगाया कि राजीव गांधी ने सेना के युद्धपोत का इस्तेमाल पर्सनल टैक्सी की तरह किया.