नरेन्द्र मोदी को सर्वसम्मति से 353 सांसदों के संसदीय दल का नेता चुना जाता है।’’ इस दौरान मोदी ने सांसदों और नेताओं का अभिवादन स्वीकार किया। इस दौरान संसद के सेन्ट्रल हॉल में मोदी ने राजग के सांसदों से कहा : हम उनके लिए हैं जिन्होंने हम पर भरोसा किया तथा उनके लिए भी हैं जिनका हमें विश्वास जीतना है। सत्ता में रहते हुए लोगों की सेवा करने से बेहतर अन्य कोई मार्ग नहीं है।

अब हम नयी ऊर्जा के साथ, नया भारत बनाने के लिए, एक नयी यात्रा शुरू करेंगे। इस चुनाव में सत्ता समर्थक लहर थी, इसके परिणामस्वरूप सकारात्मक जनादेश आया। चुनाव बांटते हैं और दूरियां पैदा करते हैं लेकिन 2019 चुनाव ने लोगों और समाज को जोड़ने का काम किया।

मोदी अब नयी सरकार के गठन का दावा पेश करने के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करेंगे जिसके बाद उन्हें अगले प्रधानमंत्री के रूप में शपथ दिलाई जाएगी। शपथ-ग्रहण समारोह अगले सप्ताह आयोजित हो सकता है।
केंद्रीय कक्ष में आयोजित बैठक में भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी भी राजग के अन्य नेताओं के साथ मंचासीन थे। शाह ने मोदी के नाम का प्रस्ताव रखा और पूर्व पार्टी अध्यक्षों राजनाथ सिंह तथा नितिन गडकरी ने प्रस्ताव का अनुमोदन किया।

मोदी का चुनाव महज औपचारिकता ही था क्योंकि राजग पहले ही उन्हें गठबंधन का प्रधानमंत्री पद का दावेदार घोषित कर चुका है। मोदी के नेतृत्व में राजग ने आम चुनाव में बड़ी सफलता हासिल की है जिसमें भाजपा की 303 सीटें शामिल हैं।