fbpx
Now Reading:
इंद्राणी मुखर्जी के बयान ने ठोकी चिदंबरम के ताबूत में आखिरी कील, सरकारी गवाह बनते ही दर्ज हुआ था केस
Full Article 3 minutes read

इंद्राणी मुखर्जी के बयान ने ठोकी चिदंबरम के ताबूत में आखिरी कील, सरकारी गवाह बनते ही दर्ज हुआ था केस

पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को आईएनएक्स मीडिया से संबंधित मामले में सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया है। आज उन्हें CBI कोर्ट में पेश किया जाएगा। चिदंबरम के लिए आज का दिन अहम है, क्योंकि आज उन्हें को कोर्ट में पेश किया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक सीबीआई उन्हें दोपहर 2 बजे राउज एवेन्यू कोर्ट में पेश करेगी। सीबीआई बड़े-बड़े वकीलों की मदद लेगी, क्योंकि चिदंबरम की तरफ से भी बड़े वकीलों की बड़ी टीम है।

लेकिन चिदंबरम की गिरफ्तारी के पीछे जो नाम सबसे ऊपर आ रहे है वो है इन्द्राणी मुखर्जी का। इन्द्राणी बेटी शीना बोरा की हत्या के आरोप में जेल में बंद हैं और सूत्र बताते हैं की उनका सरकारी गवाह बनाना ही चिदंबरम पर भारी पड़ गया। सूत्रों के मुताबिक पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम के खिलाफ जो केस दर्ज हुआ है, वह पीटर मुखर्जी के पत्नी इंद्राणी मुखर्जी के बयान के आधार पर ही दर्ज हुआ है।इंद्राणी मुखर्जी ने अपने बयाने में कहा था कि एफआईपीबी मंजूरी में हुए उल्लंघन को कथित तौर पर रफा-दफा करने के लिये 10 लाख डॉलर की कार्ति की मांग को दंपति ने कबूल कर ली थी। इंद्राणी 11 जुलाई को सीबीआई मामले में इकबालिया गवाह बन गई थी।

पीटर मुखर्जी और इंद्राणी का नाम आईएनएक्स मीडिया द्वारा प्राप्त धन के लिये 2007 में विदेशी निवेश संवर्द्धन बोर्ड (एफआईपीबी) की अवैध तरीके से मंजूरी हासिल करने से संबंधित मामले में सामने आया था।

इंद्राणी आईएनएक्स मीडिया प्राइवेट लिमिटेड की पूर्व निदेशक है। मीडिया कारोबारी पीटर मुखर्जी और उनकी पत्नी इंद्राणी मुखर्जी दोनों शीना बोरा हत्याकांड में जेल में बंद हैं। शीना बोरा इंद्राणी और उनके पहले पति की बेटी थी।प्रवर्तन निदेशालय ने दिल्ली हाईकोर्ट में अपने मामले पर बहस करने के लिए इंद्राणी मुखर्जी के बयान को आधार बनाया। दिल्ली हाईकोर्ट ने मंगलवार को पी चिदंबरम को अग्रिम जमानत देने से इनकार कर दिया था। इसके बाद वह बुधवार को सुप्रीम कोर्ट पहुंचे थे, लेकिन सुप्रीम कोर्ट से उन्हें फौरी राहत नहीं मिली। बुधवार शाम को सीबीआई ने चिदंबरम को उनके घर से गिरफ्तार कर लिया।

सूत्रों ने एनडीटीवी को बताया कि इंद्राणी मुखर्जी ने प्रवर्तन निदेशालय को बताया कि चिदंबरम ने आईएनएक्स मीडिया को विदेशी निवेश की मंजूरी के बदले में कार्ति चिदंबरम की उसके कारोबार में मदद करने के लिए कहा था।

Input your search keywords and press Enter.