कांग्रेस से नाराज चल रहे विधायक अलपेश ठाकोर ने पार्टी  से इस्तीफा दे दिया है.अटकलें लगाई जा रही हैं कि अल्पेश ठाकोर बीजेपी जॉइन कर सकते हैं. अल्पेश ठाकोर के करीबी धवल झाला ने अल्पेश के कांग्रेस पार्टी छोड़ने की पुष्टि की है. गौरतलब है कि बीते कई दिनों से चर्चा थी कि ठाकोर बीजेपी में शामिल हो सकते हैं. हालांकि तब उन्होंने इन खबरों का खंडन किया था.उन्होंने कहा था कि वे अभी कांग्रेस में हैं और बने रहेंगे. साथ ही उनका कहना था कि वे ठाकोर समुदाय के लोगों के हित की लड़ाई लड़ते रहेंगे.

11 अप्रैल से लोकसभा चुनाव के लिए पहले चरण का मतदान शुरू होने जा रहा है ऐसे में अल्पेश ठाकोर का पार्टी से जाना कांग्रेस के लिए महंगा साबित हो सकता है.

ठाकोर सेना के लोग अल्पेश ठाकोर को लोकसभा टिकट न मिलने से नाराज हैं। ठाकोर सेना ने मंगलवार रात को अपने आगे की रणनीति तय करने के लिए बैठक बुलाई थी। इस बैठक में ये फैसला लिया गया कि अल्पेश ठाकोर को कांग्रेस से इस्तीफा देना होगा। बैठक में ठाकोर क्षत्रिय सेना के इस फैसले की जानाकारी खुद अल्पेश के करीबी धवलसिंह झाला ने ही दी। इस बात के सामने आने के बाद गुजरात की राजनीति तेज़ हो गई है। हालाँकि इससे पहले जब इसी तरह की बात उठी थी तब कांग्रेस विधयक अल्पेश ठाकोर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस दावा किया था कि वो कांग्रेस में ही रहेंगे ओर बीजेपी ज्वॉइन नहीं करेंगे।

अल्पेश ठाकोर ने भी ये साफ़ कर दिया है कि, ठाकोर सेना ने जो फैसला लिया है, वो उनके लिए आखिरी है। ठाकोर के इस्तीफे की बात सामने आने के बाद कांग्रेस पूरी तरह से एक्टिव हो गई है। कांग्रेस के सूत्रों की मानें तो गुजरात कांग्रेस की ओर से राहुल गांधी से बात की गई और अल्पेश ठाकोर और ठाकोर सेना को मनाने की शुरुआत कर दी गई है क्योंकि अगर अल्पेश ठाकोर इस्तीफा देते हैं तो उसका खामियाजा कांग्रेस को चार लोकसभा सीटों पर भुगतना पड़ सकता है। इन सीटों में उत्तर गुजरात की बनासकांठा, पाटन, महेसाना और साबरकांठा सीट शामिल  हैं।