तीर्थ क्षेत्र ब्रज में इस वर्ष 23 एवं 24 अगस्त, दोनों दिन कृष्ण जन्माष्टमी मनाई जाएगी जबकि कृष्ण जन्मभूमि, द्वारिकाधीश एवं वृदांवन के रंगजी मंदिर सहित प्रमुख मंदिरों में जन्मोत्सव 24 अगस्त को मनाया जाएगा.

उत्तर प्रदेश सरकार अयोध्या के दीपोत्सव, बरसाना के रंगोत्सव के बाद ब्रज तीर्थ विकास परिषद के माध्यम से मथुरा में दिव्य और भव्य श्रीकृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव का आयोजन करने में जुटी है. इसके तहत इस बार भगवान के जन्मोत्सव की घड़ी पर पूरे ब्रज में एक साथ शंखनाद होगा.

ब्रज के अनेक तीर्थस्थलों पर मौजूद कई हजार मंदिरों में रात्रि के 12 बजते ही घण्टे-घड़ियाल बज उठेंगे. स्थानीय निवासियों से भी इस अवसर पर भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव का उल्लास प्रकट करने के लिए घरों में भी समवेत स्वर में जयघोष एवं अनुनाद करने का आग्रह किया जा रहा है. मंदिरों, शहर के मार्गों व घरों को रंग-बिरेगी रोशनी से सजाया जा रहा है.

ब्रज तीर्थ विकास परिषद और प्रशासन का अनुमान है कि इस बार मुड़िया पूनों मेले के समान ही जन्माष्टमी के पर्व पर यहां आने वाले अधिकतम श्रद्धालुओं का रिकार्ड टूट जाएगा.

श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान के सचिव कपिल शर्मा ने बताया, ‘‘रविवार 24 अगस्त की सुबह से ही संस्थान के लीलामंच पर जन्माष्टमी संबंधी आयोजन शुरू हो जाएंगे. रात को भगवान के प्राकट्य की लीला होगी और भागवत भवन में ठाकुरजी का जन्माभिषेक किया जाएगा.’’

मथुरा के द्वारिकाधीश मंदिर में भी जन्माष्टमी 24 को ही मनाई जा रही है. यह जानकारी द्वारिकाधीश मंदिर के जनसम्पर्क अधिकारी एडवोकेट राकेश तिवारी ने दी.