पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की हालत नाजुक बनी हुई है. बीते कुछ दिनों से  केंद्रीय मंत्री और नेताओं का एम्स पहुंचने का सिलसिला लगातार जारी है. इसी क्रम में बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी अरुण जेटली का हाल जानने एम्स पहुंचे. 

गौरतलब है कि अरुण जेटली को  सांस लेने में परेशानी और बेचैनी के चलते बीते 9 अगस्त को एम्स में भर्ती किया गया था. जहां उनकी स्थिति नाजुक बनी हुई है. बताया जा रहा है कि अरुण जेटली  कार्डियो-न्यूरो सेंटर में एक्सट्रॉकोर्पोरियल मेम्ब्रेन ऑक्सीजनेशनऔर इंट्रा-एओर्टिक बैलून पंप सपॉर्ट पर हैं.

वहीं बीते दिनों राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, स्वास्थ मंत्री  हर्षवर्धन, केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भीसहित कई हस्तियां अरुण जेटली का हाल जानने एम्स पहुंचे थे. 

आपको बात दें कि पीएम नरेंद्र मोदी के पहले कार्यकाल में उनकी कैबिनेट का महत्वपूर्ण स्तंभ रहे अरुण जेटली के पास वित्त और रक्षा मंत्रालय का प्रभार था. लेकिन लगातार बिगड़ते स्वास्थ के चलते उन्होंने साल 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा था. 4 मई, 2018 को  एम्स में उनके गुर्दे का प्रत्यारोपण हुआ था. जिसके चलते रेल मंत्री पीयूष गोयल को  वित्त मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई थी. लंबे समय तक मधुमेह से पीड़ित अरुण जेटली ने रहने से वजन बढ़ने के कारण सितंबर 2014 में उन्होंने बैरिएट्रिक सर्जरी कराई थी.