पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयपाल रेड्डी का निधन, पिछले कई दिनों से थे बीमार

हैदराबाद: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री एस जयपाल रेड्डी का शनिवार देर रात हैदराबाद के एक अस्पताल में निधन हो गया। वह 77 वर्ष के थे। कांग्रेस के एक नेता ने पत्रकारों को बताया कि रेड्डी को हाल में निमोनिया हुआ था और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां देर […]

भूमि विवाद को लेकर तेलंगाना में महिला वन अधिकारी पर हमला, TRS विधायक का भाई गिरफ्तार

हैदराबाद: तेलंगाना में भूमि विवाद को लेकर कोमराम भीम असिफाबाद जिले के एक गांव में वन विभाग की एक महिला अधिकारी पर रविवार को कुछ लोगों ने हमला कर दिया, जिसमें वह घायल हो गई। इस घटना के सिलसिले में टीआरएस के एक विधायक के भाई को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस अधीक्षक मल्ला रेड्डी […]

हैदराबाद हाईकोर्ट के जज ने कहा, मां और भगवान का विकल्प है गाय

नई दिल्ली। गाय को देश की पवित्र संपदा मानते हुए हैदराबाद हाईकोर्ट के एक जज ने कहा है कि गाय मां और भगवान का विकल्प है. कोर्ट में एक सुनवाई के दौरान माननीय जज बी शिव शंकर राव ने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि बकरीद के […]

साल 2021 में पटरी पर दौड़ेगी पटना मेट्रो

देश के अन्य महानगरों की तरह बिहार की राजधानी पटना में भी मेट्रो ट्रेन दौड़ती नज़र आएगी. उत्तर भारत में दिल्ली और लखनऊ के बाद पटना मेट्रो ट्रेन की सुविधा से लैस तीसरा शहर होगा. फिलहाल पूरे देश में छह शहरों कोलकाता, दिल्ली, गुड़गांव, बैंगलुरू, मुंबई, चेन्नई और जयपुर में कार्यरत हैं जबकि कोच्ची, हैदराबाद, […]

नरेंद्र मोदी बनाम राहुल

देश में इस वक़्त दो व्यक्ति प्रधानमंत्री पद के प्रमुख दावेदार हैं. राहुल गांधी और नरेन्द्र मोदी. लेकिन न तो राहुल और न ही मोदी ने तरक्की का ऐसा कोई मॉडल पेश किया है, जो समूचे देश के हित में हो. हालांकि, दोनों ही कहते हैं कि देश मज़बूत और विकसित बने, पर दोनों को […]

ऐतिहासिक शहर बन रहे हैं : आतंक की नर्सरी

बोधगया विस्फोट और आतंकी यासीन भटकल की गिरफ्तारी के बाद यह बहस छिड़ गई है कि आतंकियों के तार ऐतिहासिक शहरों से क्यों जुड़ रहे हैं? दरभंगा, हैदराबाद और आजमगढ़ जैसे ऐतिहासिक शहरों में युवा आतंकवाद  तेजी से पनप रहा है. आखिर क्या वजह है कि जिन शहरों को इतिहास के पन्नों में सकारात्मक तरजीह […]

देश को बेहतर राजनीतिक नेतृत्व की ज़रूरत है

मौजूदा समय में देश की राजनीतिक दशा बेहद ख़राब है. चालू खाते पर कोई नियंत्रण नहीं रह गया है. मुझे याद है, जब 1991 में चालू खाता घाटा लगभग 3 प्रतिशत के क़रीब था और देश पूरी तरह से वित्तीय संकट से घिर गया था. अब यह 4.8 प्रतिशत है. बेशक हमारे पास विदेशी मुद्रा […]

तेलंगाना की नाकामयाबी

गृहमंत्री पी चिदंबरम ने बीती 9 दिसंबर को एक अलग तेलंगाना राज्य के गठन की मांग पर सरकार की स्वीकृति की घोषणा की थी. इस घोषणा ने राजनीतिक भूचाल ही खड़ा कर दिया. राज्य को बांटने के मुद्दे पर विभिन्न राजनीतिक दलों से जुड़े विधायकों ने विरोध में सामूहिक तौर पर पद से त्यागपत्र दे दिया.

खुल गया विवादों का पिटारा

राजनीति के पब्लिक स्कूल में पढ़ाई का बस एक ही विषय है घटना. केंद्र के राजनेताओं ने चुप्पी साध कर विवाद को सुलगने दिया. पांच वर्षों के दौरान मिली दो कामयाबी से वे आश्वस्त हैं कि विलंब ही निदान है. इस विलंब के चेतावनी संकेत को आप कमतर न आंके. जब आपको विभाजन और एकता जैसी असंगत मांगों पर चलना होता है तो टालमटोल हमेशा से एक विकल्प रहा है.