fbpx

Tag: असम

तरूण गोगोईः सत्‍ता में लौटने की छटपटहाट

तरूण गोगोईः सत्‍ता में लौटने की छटपटहाट

असम विधानसभा चुनाव अगले साल होने वाले हैं, लेकिन मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने एक साल पहले ही चुनाव प्रचार के ज़रिये माहौल बनाना शुरू कर दिया है. भले ही राज्य की जनता उनके अधूरे वादों को लेकर सवाल पूछ रही...

ब्रह्मपुत्र पर चीन का बांध और असम

ब्रह्मपुत्र पर चीन का बांध और असम

ब्रह्मपुत्र असम के लिए जीवनरेखा की तरह है. पड़ोसी देश चीन ब्रह्मपुत्र पर बांध बना रहा है. इस ख़बर का अर्थ है कि वहां के जनजीवन पर इसका गहरा प्रभाव पड़ सकता है. चीन अपने तिब्बत के हिस्से में ब्रह्मपुत्र...

उत्तर भारत बांग्‍लादेशी दुल्‍हनों का बड़ा बाजार

उत्तर भारत बांग्‍लादेशी दुल्‍हनों का बड़ा बाजार

मां तुम मुझे अब कभी नहीं देख सकोगी. मुझे भूल जाओ. सोच लो कि तुम्हारी बेटी नज़मा अब मर गई. मैं अपने बच्चों को नहीं छोड़ सकती और वे यहां आ नहीं सकते. वे तुम्हें कभी नानी नहीं कह पाएंगे....

ट्रक एंट्री का गोरखधंधा

ट्रक एंट्री का गोरखधंधा

नीतीश सरकार एक ओर जहां राज्य की माली हालत एवं राजस्व की कमी का रोना रोते हुए विकास के लिए केंद्र से अतिरिक्त सहायता और बिहार को विशेष राज्य का दर्ज़ा देने की मांग कर रही है, वहीं दूसरी तरफ...

भारत-बांग्‍लादेश संबंध और पूर्वोत्‍तर का मुद्दा

भारत-बांग्‍लादेश संबंध और पूर्वोत्‍तर का मुद्दा

काफी उम्मीदों और ढेर सारी संभावनाओं के बावजूद भारत और बांग्लादेश के संबंधों में अपेक्षित सुधार नहीं आ सका है. भौगोलिक, भाषाई, सांस्कृतिक, आर्थिक एवं राजनीतिक रूप से दोनों देश एक-दूसरे के का़फी नज़दीक रहे हैं. इसके बावजूद अविश्वास और...

कामतापुरी आंदोलन भी सुलग उठा

कामतापुरी आंदोलन भी सुलग उठा

तेलंगाना की आग उत्तर बंगाल के ब़र्फीले पहाड़ों के साथ-साथ मैदानी इलाक़ों तक पहुंच गई है. वैसे गोरखालैंड की तरह कामतापुर आंदोलन कभी तीव्र नहीं रहा, पर मौक़ा देखकर एक बार फिर इसके कॉडर सड़कों पर उतर आए हैं. कामतापुर...

असम में क्यों नाकाम रही क्षेत्रवाद की  राजनीति

असम में क्यों नाकाम रही क्षेत्रवाद की राजनीति

असम में क्षेत्रवाद की राजनीति के भविष्य को लेकर इन दिनों का़फी चर्चाएं हो रही हैं. इस चर्चा के केंद्र में है असम गण परिषद. अपनी स्थापना के साथ ही यह राजनीतिक दल जनता का ध्यान आकर्षित करता रहा है....

आत्मसमर्पण का मतलब शांति की बहाली नहीं

आत्मसमर्पण का मतलब शांति की बहाली नहीं

पिछले डेढ़ दशकों से असम के दो पहाड़ी ज़िलों में दहशत फैला रहे उग्रवादी संगठन डी एच डी (जे) उ़र्फ ब्लैक विडो के आत्मसमर्पण के साथ ही दोनों ज़िलों में शांति बहाली की उम्मीद पैदा हुई है. नृशंसतापूर्वक नरसंहारों को...

Input your search keywords and press Enter.