fbpx
Now Reading:
Shaheen Bagh Protest: सड़क खाली कराने पर HC ने कहा- जनहित को ध्यान में रखकर कार्रवाई करे पुलिस
Full Article 3 minutes read

Shaheen Bagh Protest: सड़क खाली कराने पर HC ने कहा- जनहित को ध्यान में रखकर कार्रवाई करे पुलिस

राजधानी दिल्ली में शाहीन बाग इलाके में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर पिछले करीब एक महीने से प्रदर्शन हो रहे हैं. इस प्रदर्शन को लेकर काफी समय से शाहीन बाग-कालिंदी कुंज सड़क बंद है. आज दिल्ली हाई कोर्ट में इस सड़क को खुलवाने की मांग को लेकर दायर की गई याचिका पर सुनवाई हुई. जिसपर दिल्ली हाई कोर्ट ने ये मामला दिल्ली पुलिस पर छोड़ दिया. हाई कोर्ट ने कहा कि पुलिस जनहित को ध्यान में रखते हुए कार्रवाई करे.

कानून व्यवस्था का ध्यान रखे दिल्ली पुलिस- हाई कोर्ट

दिल्ली हाइकोर्ट ने सभी पक्षों से कहा है कि सभी संबंधित विभाग इस मुद्दे को देखें और सरकारी नियमों और कानून के हिसाब से काम करें. हाई कोर्ट ने यह भी कहा कि दिल्ली पुलिस जनहित को ध्यान में रखते हुए कार्रवाई करें और कानून व्यवस्था का भी ध्यान रखे. इससे पहले याचिकाकर्ता ने कहा कि सरकार और पुलिस को भी इस मामले में शिकायत दी हुई है और कुछ नहीं हुआ. दायर याचिका में कहा गया था कि 15 दिसंबर के बाद से ही मथुरा रोड से कालिंदी कुंज की तरफ जाने वाली सड़क प्रदर्शनकारियों ने बंद कर रखी है, जिसकी वजह से लोगों को रोजाना परेशानी का सामना करना पड़ता है.

शाहीन बाग प्रदर्शन में ज्यादातर महिलाएं शामिल

दरअसल शाहीन बाग के कारण दिल्ली और नोएडा को जोड़ने वाला रास्ता जो कालिंदी कुंज से होकर गुजरता है वो भी पिछले एक महीने से बंद है. उस सड़क पर 200 दुकानें हैं और सारी दुकाने बंद हैं. उस सड़क के कारण दूसरी सड़कें पूरे दिन जाम रहती हैं. एक घंटे का सफर ढाई घंटे में पूरा हो रहा है. शाहीन बाग प्रदर्शन में ज्यादातर महिलाएं हैं, जो अपने बच्चों के साथ रात-रात भर इस प्रदर्शन में शामिल रहती हैं.

अब क्या है दिल्ली पुलिस के सामने विकल्प?

नोएडा से दिल्ली आने-जाने वाले इस रास्ते से रोजाना करीब ढाई लाख वाहन निकलते हैं, जिन्हें पिछले एक महीने से दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है. अब अदालत ने जब कानून व्यवस्था लागू करने के लिए गेंद दिल्ली पुलिस-केंद्र सरकार के पाले में गेंद डाली है तो प्रशासन के बाद कुछ ही विकल्प बचते हैं.

–    शाहीन बाग में जारी प्रदर्शन को किसी और स्थान पर शिफ्ट कराया जाए.

–    पुलिस कार्रवाई के द्वारा प्रदर्शनकारियों को हटाया जाए.

–    सरकार का कोई प्रतिनिधि जाकर प्रदर्शनकारियों से चर्चा करे, ताकि खुद ही प्रदर्शनकारी हट जाएं.

गौरतलब है कि केंद्र सरकार के द्वारा लागू किए गए नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ शाहीन बाग पर 15 दिसंबर से प्रदर्शन हो रहा है. यहां पर हजारों की संख्या में महिलाएं, स्टूडेंट और अन्य प्रदर्शनकारी लगातार डटे हुए हैं. यहां बीते दिनों से कुछ नेता भी लगातार प्रदर्शनकारियों के पास जाकर वहां पर संबोधन कर रहे थे.

Input your search keywords and press Enter.