fbpx
Now Reading:
सोनभद्र नरसंहार पीड़ितों से मिलकर अपने आंसू रोक नहीं पाई प्रियंका गांधी, आंचल से आंसू पोंछा
Full Article 2 minutes read

सोनभद्र नरसंहार पीड़ितों से मिलकर अपने आंसू रोक नहीं पाई प्रियंका गांधी, आंचल से आंसू पोंछा

सोनभद्र नरसंहार में मारे गए लोगों के परिजनों से मिलने पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा भावुक हो गईं. इस मौके पर वो अपनी आंसू रोक नहीं पाई. प्रियंका गांधी ने आंचल से आंसू पोंछते हुए पीड़ित परिजनों को कहा कि हम आपके साथ खड़े हैं.

बता दें कि सोनभद्र में 17 जुलाई को 10 आदिवासियों को जमीन विवाद में की हत्या कर दिया गया. इस घटना के बाद पीड़ितों से मिलने प्रियंका गांधी जा रही थी. तभी रास्ते में मिर्जापुर से प्रियंका गांधी को रोक दिया गया और उन्हें हिरासत में ले लिया गया. पुलिस ने उन्हें चुनार गेस्ट हाउस ले गई. जहां प्रियंका गांधी अपने समर्थकों के साथ रात भर रुकी और इस बात पर अड़ी रही की वे पीड़ितों के परिवार से बिना मिले नहीं जाएंगी.

इसके बाद भी कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को प्रशासन ने सोनभद्र जाने की इजाजत नहीं दी, वह मिर्जापुर स्थित चुनार गेस्ट हाउस में ही रुकी हुई है, जहां पीड़ित परिवारों के परिजनों ने आकर उनसे मुलाकात की. इससे पहले प्रियंका गाधी ने साफ किया था कि जब तक वह पीड़ित परिवारों से मिल नहीं लेतीं, तब तक वापस नहीं जाएंगी.

सोनभद्र जिले के उम्भा गांव में 90 बीघा जमीन के विवाद में गुर्जर और गोंड बिरादरी के बीच हुए खूनी संघर्ष हुई. इसमें गोंड आदिवासियों (एक ही पक्ष) के 10 लोगों की मौत हो गई, जबकि 28 लोग घायल हैं. बताया जा रहा है कि इस जमीन पर 1947 से आदिवासियों का कब्जा था. गोंड बिरादरी के लोग इस जमीन पर खेती करते थे. इसी जमीन को खाली कराने के लिए ग्राम प्रधान जमीन ने करीब 200 हमलावरों के साथ पहुंचा. जब आदिवासियों ने इसका विरोध किया तो सैकड़ों राउंड फायरिंग कर दी.

इस नरसंहार में बिहार कैडर के एक आईएएस अधिकारी का भी नाम सामने आ रहा है. कहा जा रहा है कि 2 साल पहले पूर्व आईएएस आशा मिश्रा और उनकी बेटी ने यह जमीन ग्राम प्रधान यज्ञदत्त को बेच दी थी. इसी जमीन पर कब्जे के लिए ग्राम प्रधान करीब 200 हमलावरों के साथ पहुंचा था.

Input your search keywords and press Enter.