fbpx
Now Reading:
PMC बैंक घोटाला: हार्टअटैक से 2 की मौत के बाद 39 साल की डॉक्टर ने की आत्महत्या
Full Article 3 minutes read

PMC बैंक घोटाला: हार्टअटैक से 2 की मौत के बाद 39 साल की डॉक्टर ने की आत्महत्या

PMC Scam

मुंबई. पंजाब एंड महाराष्ट्र बैंक घोटाले (PMC Bank Scam) के बाद बीते 24 घंटे में उसके दो खाताधारकों फट्टोमल पंजाबी (Fattomal Punjabi) और संजय गुलाटी (Sanjay Gulati) की हार्ट अटैक (Heart Attack) से मौत की बात सामने आई है. अब मुंबई के वरसोवा इलाके में रहने वाली 39 वर्षीय एक डॉक्टर जो कि PMC की खाताधारक भी थीं की आत्महत्या (Suicide) का मामला सामने आया है. मिली जानकारी के मुताबिक डॉक्टर योगिता बिजलानी (39) ने बीती रात नींद की गोलियों की ओवरडोज के जरिए आत्महत्या कर ली.

क्या है मामला?
बताया जा रहा है कि योगिता पहले से ही डिप्रेशन में थीं और उनके भी 1 करोड़ से ज्यादा रुपए पंजाब एंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक में जमा थे. हालांकि वरसोवा पुलिस ने इस आत्महत्या का संबंध पीएमसी बैंक घोटाले से होने से इनकार कर दिया है. पुलिस का कहना है कि उन्होंने शुरुआती जांच में पाया गया है कि योगिता ने बीते साल अमेरिका में भी सुसाइड करने की असफल कोशिश की थी.

बता दें कि बैंक के कुछ अधिकारियों पर फर्जी तरीके से ऋण वितरित करने के लिए निजी कंपनी एचडीआईएल के साथ साठगांठ करने का आरोप है जिससे बैंक को 4,355 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ और हजारों निवेशक पैसे निकाल पाने में असमर्थ हो गये एवं उनकी बचत खतरे में आ गयी.

पुलिस ने किया इनकार
पुलिस के मुताबिक आत्महत्या की वजह का पता लगाया जाना अभी बाकी है. उसका पीएमसी बैंक में खाता तो था लेकिन हमें नहीं लगता कि इसका (मौत का) संबंध बैंक के संकट से है. उन्होंने कहा कि बिजलानी पिछले कुछ वर्षों से अवसादग्रस्त थीं और उसने पिछले साल मार्च में अमेरिका में खुदकुशी करने की कथित तौर पर कोशिश की थी. अधिकारी के अनुसार वह अमेरिका में प्रैक्टिस कर रही थीं. पहली शादी से उनकी 17 साल की बेटी हैं जबकि एक अमेरिकी नागरिक से दूसरी शादी से उनका डेढ़ साल का बेटा है.

25,000 रुपये थी कैश निकासी की सीमा
बीते 24 सितंबर को भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) ने नोटिस जारी कर बैंक पर छह महीनों के लिए लेनदेन समेत कई तरह का प्रतिबंध लगा दिया था. जिसके मुताबिक न तो बैंक कोई नया लोन जारी कर सकता है और न ही इसका कोई ग्राहक 25,000 रुपये से अधिक की निकासी कर सकता था. इस मामले में कई गिरफ्तारियां हुई हैं और प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) हाउसिंग डेवलपमेंट एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (HDIL) से संबंधित अन्य कंपनियों के बारे में जांच कर रहा है.

तीसरी बार बढ़ाई लिमिट
रिजर्व बैंक ने तीन अक्टूबर को PMC बैंक के ग्राहकों के लिए कैश निकालने की सीमा 10,000 रुपये से बढ़ाकर 25,000 रुपये कर दी थी. लेकिन बाद में इसमें फिर तब्दीली की गई और विथड्रॉल रकम की सीमा बढ़ाकर 40 हजार कर दिया गया. जिससे वर्तमान में पीएमसी बैंक के ग्राहक अपने खाते से 40,000 रुपये तक निकाल सकते हैं. एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक डिपॉजिटर्स के हित और बैंक का रिवाइवल पहली प्राथमिकता है.

Input your search keywords and press Enter.