fbpx
Now Reading:
मुंबई में मुस्लिम महिलाओं और छात्राओं ने किया योग, कहा- इसका जाति-धर्म से कोई लेना-देना नहीं
Full Article 2 minutes read

मुंबई में मुस्लिम महिलाओं और छात्राओं ने किया योग, कहा- इसका जाति-धर्म से कोई लेना-देना नहीं

Muslim women yoga

मुंबई के मुस्लिम बहुल इलाके और अतिसंवेदनशील माने जाने वाले मालवणी इलाके में योग दिवस के अवसर पर एक साथ सैंकड़ों मुस्लिम महिलाओं और बच्चों ने शुक्रवार की सुबह योग किया। यहां योग और प्राणायाम में करीब 500 लोग शामिल रहे। लोगों में योग को लेकर जबरदस्त जोश और जज्बा देखने को मिला। इस दौरान सबसे बेहतर योग करने को लेकर बच्चों में होड़ देखने को मिली। मुंबई के मुस्लिम बहुल इलाके के इस स्कूल में बच्चे उस समय योग कर रहे हैं जब दुनिया भर में लोग अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मन रहे हैं।

अंतराष्ट्रीय योग दिवस पर मुंबई के मलाड इलाके के कपोल हॉल में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने एक साथ योग किया। सब से खास बात के है कि दर्जनों की संख्या में बुर्के वाली महिलाओ ने भी इसमें हिस्सा लिया।इसके अलावा मुस्लिम युथ और कुछ मौलाना भी इसमें प्रतिभागी बने।

वहां मजूद लोगों ने कहा कि, योग के लिए कहा जाता है कि इसका मजहब से कोई लेना-देना नहीं है। किसी का धर्म कोई भी हो, लेकिन योग से कोई मतलब नहीं है। लोगों का कहना है कि योग करने से हमें काफी अच्छा महसूस होता है। हम योग करके टेंशन फ्री हो जाते हैं।

पूरी दुनिया आज पांचवां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मना रही है। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की थीम इस बार ‘क्लाइमेट एक्शन’ है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड की राजधानी रांची में योग किया। पीएम मोदी के साथ रांची के प्रभात तारा मैदान में करीब 35 हजार लोगों ने योग किया। वहीं, देशभर में आज लगभग 13 करोड़ लोग अलग-अलग जगहों पर योग शिविर में हिस्सा लेने पहुंच रहे हैं।

योग करने के मामले में देश के जवान भी पीछे नहीं रहे। उत्तरी लद्दाख में भारत-तिब्बत पुलिस बॉर्डर के जवानों ने 18000 फीट की ऊंचाई पर योग किया। लद्दाख में भारतीय सेना के जवानों ने सबसे कम टेंपरेचर में योग किया। जवानों ने माइनस 20 डिग्री सेल्सियस टेंपटरेचर में खड़े रहकर योग किया। सिक्किम में भारत-तिब्बत पुलिस बॉर्डर के जवानों ने ओपी दॉर्जिला के पास 19000 फीट की सबसे ऊंची चोटी पर योग किया।

देखें वीडियो :-

Input your search keywords and press Enter.