fbpx
Now Reading:
नर पिशाच ने जलती चिता से बहन का अधजला मांस निकाल कर खा लिया था, भाई ने तांत्रिक की कर दी हत्या
Full Article 3 minutes read

नर पिशाच ने जलती चिता से बहन का अधजला मांस निकाल कर खा लिया था, भाई ने तांत्रिक की कर दी हत्या

moradabad-brother-killed-tantrik-who-used-to-steal-the-flesh-of-the-dead-body-from-chita

द‍ि‍वाली की रात 27 अक्टूबर को हुई श्मशान घाट पर तांत्रिक राजेंद्र और उसके साथी नितेश की निर्मम तरीके से हत्या की गई थी। अब इस जघन्य हत्या का चौंकाने वाला खुलासा करते हुए पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पकडे गए आरोपियों ने पुलिसिया पूछताछ में जो खुलासा किया उसे सुनकर खुद तफ्तीशकर्ता भी सन्न हैं। युवकों ने बताया है कि जिस साधू की उन्होंने हत्या की है वो तंत्र-मंत्र क्रिया करने के लिए श्मशान घाट से चिता में से मांस चुराया करता थे, उस रात उन्होंने उसकी बहन की चिता से भी मांस चुरा लिया था, इसलिए उन्होंने उनकी हत्या कर दी। यह घटना उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में ठाकुरद्वारा थाना क्षेत्र की है।

डबल मर्डर का खुलासा करते एसपी देहात उदयशंकर सिंह ने बताया कि डबल मर्डर को निर्ममतापूर्वक अंजाम देने वाले आरोपी अंकुश यादव और उसके साथी बंटी को गिरफ्तार किया गया है। एसपी ने हत्या का चौंकाने वाला कारण बताते हुए कहा कि हत्यारोपी अंकुश की बहन की बीते अगस्त में मौत हो गई थी जिसके बाद परिवार वालों ने श्मशान घाट में उसका अंतिम संस्कार किया था।

शाम को जब परिवार के लोग चिता को देखने गए तो चिता पूरी तरह से जली नहीं थी और उसमें से कुछ मांस भी गायब था जिसके बाद अंकुश के पिता और आरोपी साधु के बीच इस बात को लेकर काफी विवाद हुआ था। अंकुश को शक हो गया था कि साधु ने तंत्र-मंत्र करने के लिए च‍िता पर लेटी बहन के शव से मांस चुराया है।

इस पर उनमें और मृतक राजेन्द्र गिरी से कहासुनी हो गई। उसी के परिणामस्वरूप मृतका के भाई अंकुश ने अपने दिमाग में कही न कहीं बाबा के प्रति एक धारणा बना रखी थी। द‍िवाली के दिन श्मशान घाट के पास स्थित बाग में घटना में शामिल दोनों अभियुक्तों द्वारा शराब पी गई। जब ये थोड़ा नशे में हो गए तो मारपीट और गाली देना शुरू हो गया। उस दौरान दोनों इतने आक्रामक हो गए इन्होंने दोनों साधुओं की न‍िर्मम तरीके से हत्या कर दी गई। हत्या में एलपीजी सिलेंडर, फावड़ा, डंडा और सब्जी काटने का चाकू यानी चार प्रकार के हथियार का इस्तेमाल क‍िया गया।

Brother Killed

दरअसल, 27 अक्टूबर को द‍िवाली की रात में कस्बा ठाकुरद्वारा के बाहरी इलाके में स्थित श्मशान घाट पर वहां उसकी देखरेख करने वाले राजेन्द्र गिरी और उनके साथ एक अन्य नितेश नाम के व्यक्ति की निर्मम तरीके से अज्ञात हमलावरों द्वारा हत्या कर दी गयी थी। इस घटना में कुछ लोगों पर मृतक बाबाजी के भाई द्वारा शक जाहिर किया गया था। अभियुक्तों को तलाश करना उनकी पहचान करना और उनकी गिरफ्तारी करना पुलिस के लिए एक चुनौती भरा काम था।

 

Input your search keywords and press Enter.