कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने देश में बढ़ रही मॉब लिंचिंग पर बड़ा बयान दिया है. आज राज्य सभा में उन्होंने कहा कि मॉब लिंचिंग की बढ़ रही घटनाओं पर चिंता जाहिर करते हुए झारखंड को मॉब लिंचिंग और हिंसा की फैक्ट्री करार दिया है. उन्होंने कहा कि झारखंड में दलित और मुस्लिमों को मारा जा रहा है.

राज्यसभा में अपने भाषण के दौरान गुलाम नबी आजाद ने प्रधानमंत्री मोदी से अपील करते हुए कहा कि ‘हम ‘सबका साथ और सबका विकास की लड़ाई में आपके साथ हैं. लेकिन इसे हकीकत की धरातल पर भी उतरना होगा, जिसे जनता देख सके. हम ऐसा कहीं होते नहीं देख रहे हैं.’

गुलाम नबी आजाद का कहना था कि सरकार ने सबका साथ सबका विकास के साथ सबका विश्वास जोड़ा है. जिससे आशा की किरण नजर आ रही है. लेकिन यह तस्वीर काफी धुंधली है क्योंकि दलित, अल्पसंख्यकों के खिलाफ गलत बयान देने वालों को आपने फिर से अपने मंत्रिमंडल में शामिल कर लिया है. जब किसी का विश्वास हासिल करना होता है तो धुंधलापन नहीं होना चाहिए.’

इस दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने हाल में झारखंड में हुई मॉब लिंचिंग का जिक्र करते हुए कहा कि झारखंड तो अड्डा बन गया है. वहां तो मरना तय है. यह कैसे भी रूक नहीं सकता. सबका विश्वास कहीं नजर नहीं आता, इसका असर होता दिख नहीं रहा है.

गौरतलब है कि झारखंड में पिछले कुछ दिनों से मॉब लिंचिंग की घटनाओं में बढ़ोत्तरी हुई है. ताजा मामले में चोरी के आरोप में तबरेज अंसारी नाम के एक शख्स को भीड़ ने न सिर्फ पीटा बल्कि उससे जबरन जय श्री राम के नारे भी लगवाए गए थे. बताया जाता है कि पुलिस को सौंपने से पहले भीड़ ने उसे 18 घंटे तक बांधकर रखा और पिटाई की. जिसके बाद पुलिस ने उसे घायलावस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उसकी मौत हो गई.