fbpx
Now Reading:
70 किलोमीटर पैदल चलकर प्रियंका से मिलने पहुंचा सोनभद्र का पीड़ित परिवार, मातम में नम हुई सभी की आंखें
Full Article 2 minutes read

70 किलोमीटर पैदल चलकर प्रियंका से मिलने पहुंचा सोनभद्र का पीड़ित परिवार, मातम में नम हुई सभी की आंखें

सोनभद्र: प्रियंका गांधी के धरने की खबर सुनने के बाद सोनभद्र का पीड़ित परिवार भी उनसे मिलना चाहता था. लेकिन जब प्रियंका को बीच रास्ते में ही रोक दिया गया तो पीड़ित परिवार भी दुखी हुए लेकिन उसके बाद अगले ही दिन वह तड़के अपने घर से निकल पड़े और 70 किलोमीटर की पैदल पदयात्रा करके उस जगह पहुंचे जहां प्रियंका गांधी को पुलिस ने रोक रखा है यानी मिर्जापुर.

प्रियंका गांधी से जब पीड़ित परिवार मिला तो वह अपने मातम के आंसू रोक नहीं पाया और महिलाएं, बुजुर्ग, बच्चियां सब मिलकर अपने दर्द पर रो रही थी वहीं प्रियंका सांत्वना देते हुए नम आंखों के साथ उन्हें गले से लगाए हुई थी. प्रियंका ने उनके आसुओं को जब अपने आँचल से पोछा तो यकीनन उनके दिल को भी कुछ शन्ति जरूर मिली होगी.

यह दृश्य जितना ही मार्मिक है उत्तर प्रदेश की सियासत के लिए यह उतना ही खतरनाक भी हो सकता है, क्योंकि जिस प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने का बीड़ा सुबह के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उठाया था वह प्रदेश अब अराजकता की ओर बढ़ रहा दिख रहा है.

जिस तरह से प्रियंका गांधी को सोनभद्र जाने से रोका गया और जिस तरह से पीड़ित परिवार पैदल चलकर प्रियंका से मिलने पहुंचा है यह पूरा घटनाक्रम उत्तर प्रदेश की सियासत में 2022 के चुनावी गणित को बदल कर रख सकता है. सत्तारूढ़ पार्टी भले ही इसे सियासत की ड्रामेबाजी करार दे लेकिन जो मार्मिक दृश्य लोग देख रहे हैं वह कुछ और ही कहानी बयां कर रहा है लोकतंत्र के इतिहास में ऐसा कई बार हुआ है कि सत्तारूढ़ दल तानाशाही करता है लेकिन विपक्ष की कमजोरी ही कई बार उसकी ताकत बन जाती है.

Input your search keywords and press Enter.