fbpx
Now Reading:
धरती के आंचल को निचोड़कर पीने के पानी का जुगाड़, गांव की सरपंच बेटी ने किया शादी से इनकार 
Full Article 3 minutes read

धरती के आंचल को निचोड़कर पीने के पानी का जुगाड़, गांव की सरपंच बेटी ने किया शादी से इनकार 

मुंबई: महाराष्ट्र के सूखाग्रस्त नंदुरबार जिले में वीरपूर गांव के लोग धरती के आंचल को निचोड़कर पीने के पानी का जुगाड़ कर रहे हैं। तस्वीर गवाही दे रही है कि मां का आंचल सुख गया है फिर भी वो अपने बच्चों को प्यासा मरने नहीं देगी। 23 वर्षीय अलका पवार अपने गांव की सरपंच है। सरपंच होने के नाते गांव में पानी लाने की जिम्मेदारी अलका ने उठाई है।
  • सूखाग्रस्त नंदुरबार में पानी की बूंद-बूंद को तरस रहा गांव, जब तक दूर नहीं होगी समस्‍या तब तक शादी नहीं करेंगी सरपंच.
  • नंदुरबार के वीरपूर गांव में पानी की समस्या इतनी है कि लोगों को 10 किलोमीटर जंगल पार करने के बाद मिलता है पानी. 
नंदुरबार का यह इलाका सबसे ज्यादा सुखा प्रभावित इलाका है. गांव में पीने का पानी नहीं है, लेकिन पूरे गांव को प्यासा मरने के लिए छोड़ा भी तो नहीं छोड़ा जा सकता, लिहाजा किसी को तो पानी लाने का बीड़ा उठाना था सो अलका ने उठा लिया। उसने जल संधारण के रास्ते गांव में पानी लाने की उम्मीद लोगों को दिखाई है।
पानी फाउंडेशन की ट्रेनिंग पूरा कर अलका जब गांव में लौटी तो उसने जलसंधारण का काम हाथ में लिया. यह काम 45 दिनों का है. इतने दिनों में वह गांव के बुढ़े बुजुर्ग और बच्चों को साथ लेकर खुद जलसंधारण के काम में जुट गई हैं. समूचा गांव अलका के साथ लगा हुआ है। पूरे गांव में जलसंधारण का काम जोरों पर चल रहा है। यह लोग अब बारिश का इंतजार कर रहे हैं। ताकी जब पानी बरसेगा तो जो गढ्ढे उन्होंने खोदे हैं वह पानी से भर जाएंगे और अगले साल पानी की समस्या से थोड़ी निजात मिलेगी।

 

अलका का नाम महाराष्ट्र के उन गिने चुने लोगों में शामिल हुआ है, जो इतनी छोटी उम्र मे सरपंच बन गए हैं। उसे देखने के लिए लड़के वाले आए तो अलका नें उन्हें यह कहकर वापस भेज दिया कि जब-तक गांव में पानी लाने की उसकी जिम्मेदारी पूरी नहीं होती। तब तक वह शादी के बारे में सोच भी नहीं सकती।
अलका के पिता निलसिंग पवार को अपने बेटी के इस रवैये के बारे में बिलकुल बुरा नहीं लगा। उन्होनें अपनी बेटी के इस फैसले पर खुशी जताई। उन्होंने कहा कि सरपंच होने के नाते अलका ने यह फैसला लिया है। मैं उसके इस फैसले का सम्मान करता हूं।
Input your search keywords and press Enter.