द्वारका की एंटी-स्नैचिंग टीम ने दिल्ली में शुक्रवार को चेन स्नेचिंग मामले में शामिल दो लोगों को गिरफ्तार किया।

टीम ने एक देसी कट्टा, दो जिंदा कारतूस, सोने का सामान और 22,000 रुपये की नकदी भी बरामद की।

यह घटना 9 जून को हुई, जब दो मोटरसाइकिल सवारों ने एक बुजुर्ग व्यक्ति की सोने की चेन छीन ली, जो द्वारका सेक्टर -22 में सुबह की सैर से घर लौट रहे थे।

वारदात को अंजाम देने के बाद दोनों मोटरसाइकिल पर मौके से फरार हो गए।

एंटी स्नैचिंग टीम ने घटना पर ध्यान दिया और आसपास के सीसीटीवी फुटेज का विश्लेषण किया।

टीम ने सीसीटीवी फुटेज के जरिए स्नैचरों के भागने के रास्ते का पता लगाया और मोटरसाइकिल को दीनापुर गांव इलाके में प्रवेश करते पाया।

इसके बाद, टीम ने स्नैचरों की पहचान करने में कामयाबी हासिल की – अजय और सुरेश – दोनों दिल्ली के नजफगढ़ इलाके के निवासी थे। हालाँकि, पुलिस को अभी तक उन्हें पकड़ना बाकी था।

एक गुप्त सूचना मिलने के बाद 10 जून को तलाशी अभियान चलाया गया कि दोनों व्यक्ति स्नैच किए गए सामान के सौदे को अंतिम रूप देने के लिए सेक्टर -23-बी द्वारका में अपने वाहन पर आएंगे।

पुलिस ने दोनों को उस समय पकड़ा जब वे अपने विश्वासपात्र मोहम्मद बासिद के साथ एक कार में सौदा कर रहे थे। ऑपरेशन के दौरान, वाहन चला रहे बासिद ने सिपाही महेश के ऊपर वहां चदा कर भागने की कोशिश की।

पुलिस ने स्नैचरों में से एक ड्राइवर बासिद और सुरेश को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस ने बासिद के घर पर भी छापा मारा और ढेर सारा पिघला हुआ सोना और एक चेन बरामद की।

उनके पास से एक टूटी हुई सोने की चेन, दो जिंदा कारतूस और 22,000 रुपये नकद भी बरामद किए गए। हालांकि, पुलिस अन्य स्नैचर अजय को पकड़ने में नाकाम रही।

दोनों स्नैचर ड्रग एडिक्ट हैं और अतीत में चेन स्नैचिंग के मामलों में गिरफ्तार हो चुके हैं।

जेल से आने के बाद अजय ने एक बाइक खरीदी थी और द्वारका इलाके में सोने की चेन छीननी शुरू कर दी थी। पुलिस ने कहा कि दोनों अपराध करने के बाद बाइक की नंबर प्लेट बदल देते थे।